डर दिखा कामकाजी महिला का देहशोषण: नशीला शर्बत पिलाकर कॉन्स्टेबल समेत चार के खिलाफ देह शोषण का मामला दर्ज

पीड़ित महिला ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ अनुकृति उज्जैनिया को परिवाद दिया, जिसके आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। इसमें देह शोषण का जिक्र एक महीने पहले होने का बताया गया है, पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। सिरोही जिले के एक कस्बे की निवासी महिला आहोर में एक संस्था में कामकाज कर रही थी।

नशीला शर्बत पिलाकर कॉन्स्टेबल समेत चार के खिलाफ देह शोषण का मामला दर्ज
जालोर। जिले के आहोर पुलिस थाने में एक कामकाजी महिला के साथ देहशोषण करने का मामला दर्ज किया गया है। इस प्रकरण में महिला ने एक अज्ञात समेत चार जनों पर आरोप लगाया है, जिसमें एक जने को पुलिस कॉन्स्टेबल बताया गया है। पीड़ित महिला की ओर से जालोर की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ अनुकृति उज्जैनिया को परिवाद दिया गया था, जिसके आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। इसमें देहशोषण की घटना का जिक्र एक महीने पहले होने का बताया गया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

पुलिस के मुताबिक सिरोही जिले के एक कस्बे की निवासी महिला आहोर में एक संस्था में कामकाज कर रही थी। उस महिला ने बताया कि वह दो बच्चों की मां है, शादी के बाद अनबन होने के चलते वह पीहर चली गई थी। बाद में खुद आजीविका चलाने के लिए आहोर की एक संस्था में कामकाजी महिला के तौर पर जुड़ गई। इस दौरान करीब एक महीने पहले राजेश कुमार नामक एक व्यक्ति आया, जिसने खुद को बड़ा अधिकारी बताया और उसे शर्बत में कुछ पिलाकर उसके साथ इच्छा के विरुद्ध देह शोषण किया।

पीड़िता ने इसमें संस्था संचालिका पर भी आरोपित के साथ मिलीभगत होने का आरोप लगाया। आरोप लगाया गया कि उक्त आरोपियों ने उसे धमकाया कि इसके बारे में उसने कहीं भी किसी को बताया तो उसे नुकसान पहुंचा देंगे। पीड़िता ने बताया कि उसके बाद जेपाराम, पुलिस कॉन्स्टेबल मुकेश कुमार व एक अज्ञात व्यक्ति ने भी उसके साथ दबाव बनाकर अलग अलग समय इच्छा के विरुद्ध देहशोषण किया। उसने परिवाद में बताया कि उसे डरा धमका रखा था कि कहीं बताया तो उसे नुकसान पहुंचाएंगे। इस कारण वो मौका पाकर वहां से भाग गई और एएसपी को अपनी परिवेदना पेश की।

एएसपी डॉ अनुकृति उज्जैनिया को इस प्रकार का परिवाद मिलते ही उन्होंने गम्भीरता दिखाई। उन्होंने आहोर थाने पहुंचकर मामले की जानकारी ली। इसके बाद प्रकरण दर्ज कर लिया गया। अब महिला के बयान दर्ज करने और मेडिकल जांच की कार्रवाई की जा रही है। पुलिस ने परिवाद के आधार पर चार जनों के विरुद्ध प्रकरण दर्ज किया है। पीड़िता ने इसमें एक नाम पुलिस कॉन्स्टेबल मुकेश कुमार का बताया है। पुलिस से मामला जुड़ा होने के कारण विभाग ने भी इसे गम्भीरता से लिया है। पीड़िता ने परिवाद में बताया कि मुकेश कुमार खुद को जालोर पुलिस का कॉन्स्टेबल बता रहा था। जिस कारण पुलिस विभाग ने जालोर ज़िला पुलिस में तैनात मुकेश नाम के सभी पुलिसकर्मियों की जानकारी जुटानी शुरू कर दी है।
आहोर थानाधिकारी निरंजन प्रताप सिंह का कहना है कि पीड़ित महिला की ओर से दिए गए परिवाद के आधार पर चार जनों के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया गया है। कॉन्स्टेबल मुकेश का अभी तक कोई पता नहीं लग पाया है। मामले की गम्भीरता से जांच कर रहे हैं।

Must Read: अजमेर: नूपुर शर्मा को खुलेआम धमकी! गर्दन लाने वाले को अपना घर देने की कही बात, वीडियो वायरल

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :