राजस्थान का सियासी संग्राम: प्रदेश स्तरीय प्रशिक्षण शिविर में दस जुलाई से माउंट आबू में जुटेगी भाजपा

माउंट आबू के प्रशिक्षण शिविर में बूथ लेवल के माइक्रो मैनेजमेंट के साथ मोदी सरकार की योजनाओं और उपलब्धियां जनता को बताने तथा लाभार्थियों तक पहुंच बनाने पर फोकस रखकर प्रोग्राम डिजाइन होंगे। बीजेपी राजस्थान में जल्द ही बड़े आंदोलन और अभियान चलाएगी, इस लिहाज से इस प्रशिक्षण शिविर को काफी अहम माना जा रहा है।

प्रदेश स्तरीय प्रशिक्षण शिविर में दस जुलाई से माउंट आबू में जुटेगी भाजपा

सिरोही। आगामी विधानसभा चुनावों में राजस्थान का सियासी संग्राम फतेह करने के लिए भारतीय जनता पार्टी नेताओं का प्रदेश स्तरीय प्रशिक्षण शिविर सिरोही के माउंट आबू में दस से बारह जुलाई तक आयोजित होगा। इसमें पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी और नेता चुनावी जीत की रणनीति पर स्थानीय पदाधिकारियों को प्रशिक्षण देंगे। बीजेपी राजस्थान में जल्द ही बड़े आंदोलन और अभियान चलाएगी, इस लिहाज से इस प्रशिक्षण शिविर को काफी अहम माना जा रहा है।

माउंट आबू के प्रशिक्षण शिविर में बूथ लेवल के माइक्रो मैनेजमेंट के साथ मोदी सरकार की योजनाओं और उपलब्धियां जनता को बताने तथा लाभार्थियों तक पहुंच बनाने पर फोकस रखकर प्रोग्राम डिजाइन होंगे। शिविर में राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष, ऑर्गेनाइजर वी.सतीश, प्रदेश प्रभारी और राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह, सह प्रभारी भारती बेन शियाल, प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, पूर्व सीएम वसुंधरा राजे, उपनेता राजेन्द्र राठौड़, केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, कैलाश चौधरी, अर्जुन राम मेघवाल, राष्ट्रीय मंत्री अल्का गुर्जर, संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर समेत कई सीनियर लीडर्स, प्रदेश पदाधिकारी, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य, मोर्चा और विभागों के प्रदेश संयोजक, सांसद-विधायक हिस्सा लेंगे। ट्रेनिंग लेने के बाद ये अपने-अपने जिलों और क्षेत्रों में बाकी कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग देंगे।

बीजेपी राष्ट्रीय कार्यसमिति में दो टास्क दिए गए हैं। इसके तहत राजस्थान में 52 हजार बूथों पर बीजेपी व्हाट्सएप ग्रुप बनाने में जुट गई है। हर बूथ पर दो सौ सक्रिय कार्यकर्ता बनाए जाएंगे। जिनकी प्रदेश स्तर पर मॉनिटरिंग होगी। आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर हर घर तिरंगा अभियान भी प्रदेश में चलाया जाएगा। अगस्त में बीजेपी नेता-कार्यकर्ता मंडल और बूथ स्तर पर यह अभियान चलाएंगे। बूथ मैनेजमेंट और मजबूती के लिए प्रदेशाध्यक्ष और संगठन मंत्री हर सप्ताह समीक्षा बैठक करेंगे। सांसद, विधायक, प्रदेश पदाधिकारियों के दौरे होंगे। बीजेपी प्रदेश में जल्द ही बड़े आंदोलन करेगी। सूत्रों के मुताबिक-हिन्दुओं और हिन्दू यात्राओं पर हमले की घटनाओं, बिगड़ी कानून व्यवस्था, किसान कर्जमाफी, पेंडिंग भर्तियां, बेरोजगारी भत्ता, अलग-अलग सरकारी योजनाओं के नाम पर वादाखिलाफी जैसे मुद्दे शामिल होंगे।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह से लेकर प्रदेश के लीडर अभी से राजस्थान के विभिन्न जिलों में अपनी पकड़ मजबूत कर रहे हैं। प्रदेश के हर छोटे से बड़े मुद्दे पर बीजेपी रणनीति के तहत काम कर रही है। बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी राजस्थान में सक्रिय हैं। राजस्थान में बीजेपी के 44 संगठनात्मक जिलों में बैठक कर चुके हैं। सभी सात संभाग, तैंतीस जिलों के दौरे कर चुके हैं। उदयपुर में कन्हैयालाल के घर पहुंचकर मृतक के परिजनों को भी वसुंधरा राजे और सतीश पूनिया ने सांत्वना दी है। कई बड़े आंदोलन हुए, जिनमें रीट पेपर लीक, करौली-जोधपुर की हिंसा और साम्प्रदायिक तनाव के मुद्दे, अलवर में मंदिर तोड़ने की घटना पर पूरी बीजेपी एक साथ गहलोत सरकार पर हमलावर रहे हैं। पिछले दो साल में प्रदेश कार्यसमिति और कोर कमेटी की करीब 15 बैठकें हो चुकी हैं। कोटा, सवाई माधोपुर, श्रीगंगानगर, जोधपुर, अजमेर, भरतपुर में बैठक हो चुकी हैं। जयपुर में प्रदेश स्तर की कई बैठकें हुईं। इसी तरह प्रदेश कार्य समिति, जिला कार्यसमिति, मंडल और बूथ कार्यसमिति की बैठकें की जा रही हैं।

Must Read: सुजानगढ़, सहाड़ा और राजसमंद में उपचुनाव से पहले सीएम गहलोत का चुनावी दौरा

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :