Air India @ 7 दशक में घर वापसी: एअर इंडिया अब हुई टाटा ग्रुप की, 1932 में टाटा एअर इंडिया के नाम से जेआरडी टाटा ने की थी शुरू

आखिर कार टाटा संस ने एअर इंडिया को खरीद लिया। सरकार की नीलामी प्र​क्रिया में सबसे ज्यादा बोली लगाकर टाटा संस ने एअर इंडिया की घर वापसी कर दी। अब ऐसे कयास लगाए जा रहे है कि  जल्दी ही कंपनी के अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

एअर इंडिया अब हुई टाटा ग्रुप की, 1932 में टाटा एअर इंडिया के नाम से जेआरडी टाटा ने की थी शुरू

नई दिल्ली, एजेंसी। 
आखिर कार टाटा संस(Tata Sons) ने एअर इंडिया को खरीद लिया। सरकार की नीलामी प्र​क्रिया में सबसे ज्यादा बोली लगाकर टाटा संस ने एअर इंडिया (Air India) की घर वापसी कर दी। अब ऐसे कयास लगाए जा रहे है कि  जल्दी ही कंपनी के अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक भारत सरकार के मंत्रियों के एक पैनल ने एयर लाइन के अधिग्रहण के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया हैं अब अधिकारिक घोषणा की उम्मीद है। इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत सरकार जल्द इसकी घोषणा कर सकती है। जबकि दिसंबर 2021 तक एअर ​इंडिया का मालिकाना हक टाटा को मिल सकता है। जानकारी के मुताबिक भारत सरकार ने टाटा संस को एअर इडिया की 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए टेंडर मांगे थे, एअर इंडिया की दूसरी कंपनी एअर इंडिया सैट्स में सरकार की 50 प्रतिशत हिस्सेदारी बचेगी। सरकार की ओर से बनाए गए पैनल में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण(Finance Minister Nirmala Sitharaman), कॉमर्स मंत्री पियूष गोयल और एविएशन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया शामिल है। एक रिपोर्ट के मुताबिक टाटा संस ने  स्पाइस जेट से अधिक की बोली लगाकर इसे खरीदा है।


जेआरडी टाटा ने 1932 में की थी शुरुआत
गौरतलब है कि जे आर डी टाटा ने 1932 में टाटा एयर सर्विसेज(Tata Air Services) की शुरूआत की थी। यह बाद में टाटा एयरलाइंस में बदल गई। 29 जुलाई 1946 को इसे पब्लिक लिमिटेड कंपनी बना दिया गया। 1953 में सरकार ने टाटा एयरलाइंस का अधिग्रहण कर इसे सरकारी कंपनी बना दिया। अब एक बार फिर टाटा ग्रुप की टाटा संस ने टाटा एअर इंडिया को खरीदकर एयरलाइन में दिलचस्पी दिखाई है।
एअर इंडिया की डील में मुंबई ऑफिस भी
आज के समय में एअर इंडिया देश में 4400 और विदेशों में 1800 लैंडिंग व पार्किंग स्लॉट को कंट्रोल कर रही है। इस का मुंबई का हेड  ऑफिस भी इस डील में शामिल किया गया है। सरकार की ओर से 2018 में इस कंपनी के 76 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए बोली मांगी थी, लेकिन इसमें सरकार मैनेजमेंट कंट्रोल अपने पास रखना चाहती थी। इसके बाद जब किसी ने भी इसकी बोली नहीं लगाई तो इसे 100 प्रतिशत बेचने का फैसला किया गया। 

एअर इंडिया की खबर को लेकर सरकार के बयान
वहीं दूसरी ओर मीडिया रिपोर्ट में एअर इंडिया की बोली मंजूर होने की खबर को सरकार ने खारिज कर दिया। सरकार की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक ये खबरें गलत है, अभी कुछ तय नहीं किया गया। जल्द ही इस बारे में जो फैसला होगा उसकी जानकारी मीडिया को दी जाएगी। गौरतलब है कि आज सुबह टाटा ग्रुप की बोली मंजूर होने की खबरें चलाई जा रही थी। 

Must Read: कन्नड के सुपर स्टार पुनीत राजकुमार का हार्ट अटैक से निधन, मुख्यमंत्री ने शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखने की अपील की

पढें दिल्ली खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :