WHO ने जारी की थर्ड वेव की चेतावनी: वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजशन ने कोरोना की थर्ड वेव को लेकर जारी की चेतावनी, 10 हफ्तों के बाद फिर बढ़ने लगा कोरोना से मौत का ग्राफ

कोरोना के नए वैरिएंट के आने के बाद अब भारत में कोरोना की तीसरी लहर करीब दिखाई दे रही है। एक विदेशी ब्रोकरेज फर्म ने आगाह किया है कि डेल्टा वैरिएंट के बढ़ते मामलों और वायरस के म्यूटेट होने से देश में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जल्द हकीकत में बदलने वाली है।

वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजशन ने कोरोना की थर्ड वेव को लेकर जारी की चेतावनी, 10 हफ्तों के बाद फिर बढ़ने लगा कोरोना से मौत का ग्राफ

जयपुर। 
आखिरकार कोरोना की तीसरी लहर की शुरूआत हो गई। विश्व में कोरोना से होने वाली मौत का ग्राफ एक बार फिर से बढ़ना शुरू हो गया। कोरोना (Corona) के नए वैरिएंट के आने के बाद अब भारत (India) में कोरोना की तीसरी लहर करीब दिखाई दे रही है। एक विदेशी ब्रोकरेज फर्म ने आगाह किया है कि डेल्टा वैरिएंट( Delta variant) के बढ़ते मामलों और वायरस के म्यूटेट होने से देश में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जल्द हकीकत में बदलने वाली है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (world health organization) ने दुनिया में थर्ड वेव(third wave) शुरू होने का ऐलान कर दिया है। संगठन के चीफ डॉ. टेड्रोस गेब्रेयेसस (Organization Chief Dr. Tedros Ghebreyesus)ने बुधवार को देशों को चेतावनी दी कि वे कोरोना की तीसरी लहर के शुरुआती फेज शुरू हो चुका हैं।
हेल्थ एक्सपर्ट के मुताबिक कोरोना के मामलों और मौतों में हाल में हुई बढ़ोतरी पर अलार्म बजाया है। यूरोप और नॉर्थ अमेरिका में वैक्सीनेशन कवरेज बढ़ने से इनमें गिरावट आई थी। दुनिया भर में लगातार चौथे हफ्ते कोरोना के मामलों में बढ़त दर्ज की गई है। 10 हफ्ते की गिरावट के बाद मौतें भी दोबारा बढ़ने लगी हैं। WHO चीफ ने कहा कि वायरस लगातार खुद में बदलाव कर रहा है। इसके साथ ही यह ज्यादा संक्रामक होता जा रहा है। उन्होंने बताया कि डेल्टा वैरिएंट अब 111 से ज्यादा देशों में पहुंच चुका है। यह जल्द ही पूरी दुनिया में भी फैल सकता है। कोरोना वायरस का अल्फा (Alpha ) वैरिएंट 178 देशों में, बीटा (Beta) 123 देशों में और गामा (Gama) 75 देशों में मिल चुका है।
विदेशों में फिर बढ़ने लगे मामले
WHO के मुताबिक दुनिया में सबसे ज्यादा नए केस ब्राजील (Brazil) में मिल रहे हैं। बीते 24 घंटों में इनकी संख्या 57 हजार से ज्यादा रही। पिछले हफ्ते यहां 3.49 लाख केस मिले। हालांकि यहां नए मामलों में 14% की गिरावट आई है। इसी दौरान इंडोनेशिया में 45%, ब्रिटेन में 28%, अमेरिका में 67%, स्पेन में 61% तक मामले बढ़े हैं। साउथ ईस्ट एशिया रीजन में मौतों के मामले में भारत सबसे आगे है। यहां 6 हजार नई मौतें दर्ज की गई हैं। इसके बाद इंडानेशिया और बांग्लादेश हैं। 
इधर भारत में पाबंदियों में छूट से जोखिम बढ़ा
UBS सिक्योरिटीज इंडिया (Securities India)की चीफ के मुताबिक कई राज्य पाबंदियों में ढील दे रहे हैं, बाजार खुल रहे हैं, इस वजह से तीसरी लहर का जोखिम और ज्यादा हो गया है। देश में वैक्सीनेशन की रफ्तार भी धीमी पड़ने लगी है। पहले भारत में औसतन 40 लाख डोज हर दिन लगाए जा रहे थे। अब यह संख्या 34 लाख तक आ गई है। यह स्थिति इसलिए भी खतरनाक है क्योंकि अब 45% केस ग्रामीण इलाकों में सामने आ रहे हैं। देश के ज्यादातर केस 20% जिलों में मिल रहे हैं। यहां दूसरी लहर का ही असर खत्म नहीं हुआ है और तीसरी लहर की आहट सुनाई देने लगी है। उन्होंने कहा कि इकोनॉमिक पॉइंटर सामान्य हो रहे हैं, लेकिन ये अब भी मिले-जुले नतीजे दिखा रहे हैं। ट्रेन और एयर पैसेंजर की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। वहीं, UBS इंडिया एक्टिविटी इंडीकेटर के मुताबिक टोल कलेक्शन अब भी पहले की स्तर से नीचे हैं।

Must Read: डीजीपी ने 8 आईपीएस समेत 66 अधिकारी व पुलिसकर्मियों को किया डीजीपी डिस्क से सम्मानित

पढें लाइफ स्टाइल खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :