रुपया थारी तीखी धार नमे मुंशी नै थानेदार: कोरोना काल में अमीरों की शादी, समारोह में 2 हजार से अधिक मेहमान उपस्थित, प्रशासन ने 25 हजार का जुर्माना लगाकर कर ली इतिश्री, बंद नहीं हुआ समारोह

जालोर जिले की रानीवाड़ा तहसील क्षेत्र के जेतपुरा गांव में पिछले  तीन दिनों से एक उद्योगपति की बेटी की शादी की रस्में चल रही हैं। जिसमें हर दिन हजारों मेहमान शामिल हो रहे हैं। इस शादी समारोह में कोविड गाइडलाइन की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।

कोरोना काल में अमीरों की शादी, समारोह में 2 हजार से अधिक मेहमान उपस्थित, प्रशासन ने 25 हजार का जुर्माना लगाकर कर ली इतिश्री, बंद  नहीं हुआ समारोह

 जालोर।
जालोर जिले की रानीवाड़ा तहसील क्षेत्र के जेतपुरा गांव में पिछले  तीन दिनों से एक उद्योगपति की बेटी की शादी की रस्में चल रही हैं। जिसमें हर दिन हजारों मेहमान शामिल हो रहे हैं। इस शादी समारोह में कोविड गाइडलाइन की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। राजस्थान सरकार ने शादी समारोह में सीमित संख्या में मेहमानों को शामिल करने सीमा तय कर रखी है, पर यहां ऐसी कोई सीमा नजर नहीं आ रही। करीब 10 हैक्टेयर भूमि पर मंडप सजाया गया हैं। इस आलीशान शादी में हजारों  मेहमानों के अलावा सैकड़ों वेटर और काम करने वाले मजदूर लगाए गए हैं। यहां सोशल डिस्टेंसिंग की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। इस शादी में अगर एक व्यक्ति भी अगर कोरोना संक्रमित शामिल हो गया तो एक साथ हजारों लोगों में संक्रमण का खतरा बढ़ जाएगा। पर वो कहते हैं न कि नियम और कायदे सिर्फ गरीब के लिए ही होते हैं। ये बात यहां एकदम सटीक बैठती हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि कोरोनाकाल में इस शादी समारोह की जानकारी जिला कलेक्टर के साथ जिला पुलिस अधीक्षक को भी है,बावजूद इसके कोरोना नियमों की पालना नहीं हो पा रही। यहां मारवाड़ी कहावत रुपया थारी तीखी धार, नमे मुंशी नै थानेदार चरितार्थ होती दिख रही है।


रसीद काटकर कर ली इतिश्री
मामले की जानकारी जिले की जिला कलेक्टर नमृता वृषानी व पुलिस कप्तान श्यामसिंह के संज्ञान में लाने के बावजूद यहां कोई कार्रवाई नहीं हो रही हैं। जिला अधिकारियों ने उपखण्ड प्रशासन को मौके पर भेजकर सिर्फ औपचारिकताएं पूरी जरूर कर ली हैं। यहां मौजूद लोगों की भीड़ को जरा भी डिस्टर्ब नहीं किया गया। मौके पर पहुंचे उपखण्ड प्रशासन के अधिकारियों कर्मचारियों ने शादी करने वाले उद्योगपति से जुर्माने के नाम पर 25 हजार की एक रसीद काटकर इतिश्री कर ली। लेकिन किसी भी अधिकारी कर्मचारी ने शादी में शामिल मेहमानों को हटाने की कोई कार्रवाई करना उचित ही नहीं समझा। 
.....तो क्या नियम कायदे गरीब पर ही होते है लागू
अब ऐसे में सवाल खड़े होते हैं कि क्या यही काम किसी गरीब के घर में होता और नियम से परे एक मेहमान भी ज्यादा होता तो क्या प्रशासन वहां भी यही सलूक करता। बिलकुल भी नहीं। प्रशासन उस गरीब को सरेआम जलील करते हुए उसके मेहमानों को वहां से भगाने की पूरी कार्रवाई करता। 
राजधानी जयपुर में 175 मेहमानों पर कर दिया था गार्डन सीज
आपको बता दें कि जालोर में जहां पुलिस और प्रशासन अमीरों की गोद में बैठा है, वहीं राजधानी जयपुर में हजारों तो दूर मात्र 175 लोगों की मौजूदगी पर प्रशासन ने पुलिस को बुलाकर मैरिज गार्डन सीज कर दिया। जयपुर के वैशाली नगर इलाके में एक मैरिज गार्डन को प्रशासन ने 50 से अधिक लोग होने पर सीज किया था, अब जालोर पुलिस पर सवाल खड़े होते है कि क्या ऐसी कार्रवाई होगी या फिर मामला 25 हजार रूपए के जुर्माने के बाद दबा दिया जाएगा।
26 को होगी रियाण, करीबन 5 हजार लोग होंगे शामिल


जेतपुरा के उद्योगपति प्रताप राजपुरोहित के बेटी की इस शादी का मुख्य समारोह कल आयोजित होगा। इसे मारवाड़ी परम्परा अनुसार रियाण कहा जाता हैं। इस रियाण कार्यक्रम में कल करीब 5000 से अधिक लोगों के शामिल होने की चर्चाएं हैं। और इसकी तैयारी भी पूरी कर ली गई हैं। विवाह स्थल पर एक बड़ा डॉम लगाया गया हैं जिसे पूरी तरह से वातानुकूलित बनाया गया हैं। जहां आने वाले मेहमानों का शाही अंदाज में स्वागत किया जाएगा। पर प्रशासन हैं कि सिर्फ मूकदर्शक बनकर तमाशबीन बना हुआ बैठा हैं।
पाबंद किया है, भीड़ आती है तो कार्रवाई करेंगे
इस पूरे मामले को लेकर जब हमने जालोर जिले की कलेक्टर नमृता वृषानी से बात की तो उन्होंने बताया कि उनके पास इसकी शिकायत आई थी। और उन्होंने उपखण्ड प्रशासन को मौके पर भेजकर जुर्माना भी वसूल किया था। इसके साथ ही उसे पाबंद भी किया गया था। अगर उसके बाद भी वहां भीड़ एकत्रित हो रही है तो कार्रवाई की जाएगी।