विंबलडन फाइनल सर्बिया के नोवाक को: नोवाक जोकोविच ने 6वीं बार जीता विंबलडन का खिताब, फाइनल में इटली की माटेओ बेरेटिनी को दी मात

आखिरकार एक बार फिर नोवाक जोकोविच ने विंबलडन का खिताब अपने नाम कर ही लिया। सर्बिया के वल्र्ड नंबर-1 नोवाक जोकोविच ने रविवार को छठी बार विम्बलडन के फाइनल में जीत दर्ज कराई। जोकोविच ने  इटली के माटेओ बेरेटिनी को 6-7, 6-4, 6-4, 6-3 से शिकस्त दी।

नोवाक जोकोविच ने 6वीं बार जीता विंबलडन का खिताब, फाइनल में इटली की माटेओ बेरेटिनी को दी मात

नई दिल्ली, एजेंसी। 
आखिरकार एक बार फिर नोवाक जोकोविच(Novak Djokovic) ने विंबलडन (Wimbledon) का खिताब अपने नाम कर ही लिया। सर्बिया के नंबर-1 नोवाक जोकोविच ने रविवार को छठी बार विम्बलडन के फाइनल में जीत दर्ज कराई। जोकोविच ने  इटली के माटेओ बेरेटिनी को 6-7, 6-4, 6-4, 6-3 से शिकस्त दी। यह जोकोविच का 20वां ग्रैंड स्लैम (20th Grand Slam)है। नोवाक ने इस जीत के साथ ही ज्यादा ग्रैंड स्लैम विजेता स्विटजरलैंड के रोजर फेडरर (Roger Federer) और स्पेन के राफेल नडाल (Rafael Nadal) के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। जोकोविच ने इस साल के शुरुआती तीनों ग्रैंड स्लैम जीत लिए हैं। साल का आखिरी खिताबी टूर्नामेंट अगस्त के आखिरी में हो सकता है। तब जोकोविच के पास फेडरर और नडाल को पीछे छोड़कर इतिहास रचने का मौका रहेगा।


इटली के माटियो का ग्रैंड स्लैम में पहला फाइनल
वहीं, इटली के माटियो बेरेटिनी (Matteo Berrettini of Italy) पहली बार किसी ग्रैंड स्लैम का फाइनल खेल रहे थे। 1976 फ्रेंच ओपन में एड्रियानो पनाटा के खिताब जीतने के बाद किसी भी इटली के पुरुष खिलाड़ी का यह पहला ग्रैंड स्लैम फाइनल था। इससे पहले बेरेटिनी ने 2019 यूएस ओपन में पहली बार सेमीफाइनल खेला था। बेरेटिनी ने ग्रास कोर्ट पर फाइनल से पहले लगातार 11 मैच जीते थे। यदि वे फाइनल भी जीत लेते तो बोरिस बेकर (1985) के बाद अपना डेब्यू ग्रैंड स्लैम फाइनल जीतने वाले पहले खिलाड़ी बन जाते। 
हर सेट के साथ ही बढ़ गया रोमांच
फाइनल में पहला सेट दोनों प्लेयर्स के बीच काफी रोमांचक रहा। एक समय Djokovic ने 5-2 की आसान बढ़त बना ली थी। इसके बाद Berettini ने वापसी करते हुए बाजी पलट दी और 6-6 से बराबरी कर ली। इसके बाद टाईब्रैक में बेरेटिनी ने फिर बाजी मारी और पहला सेट 7-6 (4) से अपने नाम कर लिया। दोनों प्लेयर्स के बीच दूसरा सेट भी काफी संघर्षपूर्ण रहा। जोकोविच ने पहले सेट की तरह इसमें भी 5-1 की बढ़त बना ली थी। इसके बाद बेरेटिनी ने वापसी की और सेट 5-4 तक ले आए। यहां से जोकोविच ने उन्हें मौका नहीं दिया और 6-4 से सेट अपने नाम कर मैच बराबर कर दिया। शुरुआती दोनों सेट की तरह इस बार भी जोकोविच ने जीत से शुरुआत की और 3-1 की बढ़त बना ली थी। बेरेटिनी ने यहां भी वापसी की पूरी कोशिश की और 4-3 से करीब आ गए थे, लेकिन जोकोविच ने उन्हें फिर पटखनी दी और 6-4 से सेट जीत लिया। मैच में वापसी के लिए बेरेटिनी को यह सेट जीतना बेहद जरुरी था। उन्होंने हर बार की तरह इसमें भी कड़ी टक्कर दी। एक समय यह सेट 3-3 से बराबरी पर था। हालांकि, डिफेंडिंग चैंपियन जोकोविच को देखकर ऐसा लग रहा था, जैसे वे युवा खिलाड़ी को खिला रहे हों। उन्होंने बेरेटिनी को कोई मौका नहीं दिया और 6-3 से सेट जीतते हुए खिताब अपने नाम कर लिया।

Must Read: फीफा कप के क्वॉलिफायर मैच में भारत की बांग्लादेश पर जीत, सुनील छेत्री ने दागे 2 गोल

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :