ममता बनर्जी पर 24 घंटे प्रचार की रोक: मुस्लिम वोटर्स से वोट न बंटने की अपील ममता दीदी को पड़ी भारी, चुनाव आयोग ने लगाई 24 घंटे चुनाव प्रचार की रोक, सीएम देगी धरना

चुनाव आयोग पर तीखे बयान दे रहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर प्रचार करने के लिए  24 घंटे की रोक लग गई है। चुनाव आयोग ने सोमवार शाम को ममता बनर्जी पर चुनाव प्रसार करने के लिए रोक लगाने की घोषणा की है

मुस्लिम वोटर्स से वोट न बंटने की अपील ममता दीदी को पड़ी भारी, चुनाव आयोग ने लगाई 24 घंटे चुनाव प्रचार की रोक, सीएम देगी धरना

नई दिल्ली। 
केंद्र सरकार और चुनाव आयोग पर तीखे बयान दे रहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee ) पर प्रचार करने के लिए  24 घंटे की रोक लग गई है। चुनाव आयोग (Election Commission) ने सोमवार शाम को ममता बनर्जी पर चुनाव प्रसार करने के लिए रोक लगाने की घोषणा की है। यह रोक सोमवार शाम 8 बजे से लेकर मंगलवार शाम तक रहेगी। आप को बता दें ​कि ममता ने कुछ दिन पहले एक रैली के दौरान मुस्लिम वोटर्स (Muslim voters) से वोट न बंटने देने की अपील की थी। यह कार्रवाई इसी बयान पर की गई है। वहीं, चुनाव आयोग के इस फैसले को ममता ने अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक बताया है। उन्होंने कहा कि इसके विरोध में मैं मंगलवार दोपहर 12 बजे कोलकाता (Kolkata) में गांधी मूर्ति के सामने धरने पर बैठूंगी।
ममता के इस बयान के चलते लगी रोक


ममता ने रायदिघी में की रैली में कहा था कि मैं मेरे अल्पसंख्यक भाइयों और बहनों से हाथ जोड़कर अपील करती हूं कि वे उन शैतानों की बात न सुनें, जिन्होंने BJP से पैसे लिए हैं। उनकी बात सुनकर अपने वोट न बंटने दें। वे हिंदुओं और मुस्लिमों को लड़ाने वाले सांप्रदायिक बयान देते हैं। वह BJP के भेजे दूत हैं। अगर BJP सत्ता में आई तो आप बड़े खतरे में पड़ जाएंगे। इस बयान के बाद चुनाव आयोग ने ममता को 7 और 8 अप्रैल को नोटिस भेजे थे। इस पर ममता ने कहा था कि आयोग ऐसे 10 नोटिस दे दे तब भी वे अपना बयान वापस नहीं लेंगी।
आचार संहिता का उल्लंघन
चुनाव आयोग ने अपने आदेश में कहा है कि पश्चिम बंगाल (West Bengal) की CM ममता बनर्जी ने आचार संहिता                ( Code of conduct) के प्रावधानों का उल्लंघन किया है। उनके भड़काऊ बयानों से कानून-व्यवस्था बिगड़ने की आशंका है। साथ ही इनसे चुनाव प्रक्रिया पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। आयोग ने ममता बनर्जी को सख्त चेतावनी के साथ सलाह दी है कि आचार संहिता लागू रहने के दौरान वे सार्वजनिक तौर पर इस तरह के बयान न दें। चौथे फेज की वोटिंग के दौरान कूचबिहार में फायरिंग में 4 लोगों की मौत के बाद चुनाव आयोग ने किसी भी नेता के जिले में जाने पर 72 घंटे की रोक लगा दी थी। इसके बाद से ममता लगातार इस मसले पर बयान दे रही हैं। ​​​​​दमदम में सोमवार को की रैली में ममता ने कहा कि मैं चुनाव आयोग से हाथ जोड़कर निवेदन करती हूं कि सिर्फ भाजपा की न सुनें, सभी की सुनें। वह पक्षपाती न बनें। इससे पहले रविवार को ममता ने कहा था कि EC (इलेक्शन कमीशन) का नाम बदलकर MCC (मोदी कोड ऑफ कंडक्ट) कर देना चाहिए। BJP अपनी ताकत का इस्तेमाल कर सकती है, लेकिन दुनिया की कोई भी ताकत मुझे मेरे लोगों का साथ देने और उनका दुख बांटने से नहीं रोक सकती। वे मुझे 3 दिन तक कूच बिहार जाने से रोक सकते हैं, लेकिन मैं चौथे दिन वहां जाऊंगी।

Must Read: Prime Minister Narendra Modi ने 50वें विजय दिवस के अवसर पर भारतीय सेना के जवानों के शौर्य और बलिदान को किया याद

पढें दिल्ली खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :