राजनीति: सीसीपी के नेता के रूप में अपने कार्यकाल को बरकरार रखने की कोशिश में शी जिनपिंग : रिपोर्ट

वाशिंगटन, 24 अगस्त (आईएएनएस)। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) के नेता के रूप में राष्ट्रपति शी जिनपिंग को तीसरे कार्यकाल के लिए भी नियुक्त किए जाने की उम्मीद है। वियना विश्वविद्यालय में चीनी राजनीति की लेक्चरर ली लिंग ने एशिया सोसाइटी द्वारा आयोजित एक ऑनलाइन पैनल में कहा कि पोलित ब्यूरो की स्थायी समिति के सदस्य के लिए आयु सीमा का नियम बतौर राष्ट्रपति 69 वर्षीय शी जिनपिंग पर लागू नहीं होता है।अनिवार्य सेवानिवृत्ति की आयु किसी भी सीसीपी आधिकारिक रेगुलेशन या दस्तावेज में नहीं है।कार्यकाल की सीमा को समाप्त करने वाले पार्टी के प्रस्ताव ने शी को पूर्व सीसीपी अध्यक्ष माओत्से तुंग की असीमित अवधि की श्रेणी में डाल दिया है। माओत्से तुंग ने 1935 से लेकर 9 सितंबर, 1976 को अपनी मृत्यु तक पार्टी के नेता के रूप में कार्य किया।वीओए ने बताया, 2017 में शी ने 19वीं पार्टी कांग्रेस में एक सक्सेसर-इन-ट्रेनिंग (आगे के नेता) को बढ़ावा देने में कोई रूचि नहीं दिखाई। अगले वर्ष, उन्होंने पार्टी अध्यक्षों के लिए दो-अवधि की सीमा को समाप्त करने का प्रयास किया। चीनी राजनीति के विशेषज्ञ और सैन डिएगो के कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में प्रोफेसर सुसान शिर्क ने कहा, शी जिनपिंग चीन को एक व्यक्तिगत तानाशाही में वापस ले जा रहे हैं।जर्नल ऑफ डेमोक्रेसी में प्रकाशित 2018 के विश्लेषण में उन्होंने कहा, शी ने 2022 में अपने सामान्य दो कार्यकाल समाप्त होने के बाद पद पर बने रहने के अपने इरादे का इजहार किया है।न्यूयॉर्क के सिटी यूनिवर्सिटी में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर जिया मिंग ने एक वीडियो इंटरव्यू में वीओए मंदारिन को बताया कि उन्हें नहीं लगता कि शी के पास अपना तीसरा कार्यकाल बरकरार रखने का सौ फीसदी मौका है।उन्होंने कहा, मौजूदा घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय स्थिति के मद्देनजर, चीनी राजनीति में एक बड़े बदलाव की संभावना बढ़ गई है। इसलिए मुझे लगता है कि शी के पास तीसरा कार्यकाल सुरक्षित करने का चांस 50-50 है।--आईएएनएस पीके/एसकेपी

सीसीपी के नेता के रूप में अपने कार्यकाल को बरकरार रखने की कोशिश में शी जिनपिंग : रिपोर्ट
Xi taking China back to personalistic dictatorship: Report
वाशिंगटन, 24 अगस्त। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) के नेता के रूप में राष्ट्रपति शी जिनपिंग को तीसरे कार्यकाल के लिए भी नियुक्त किए जाने की उम्मीद है।

वियना विश्वविद्यालय में चीनी राजनीति की लेक्चरर ली लिंग ने एशिया सोसाइटी द्वारा आयोजित एक ऑनलाइन पैनल में कहा कि पोलित ब्यूरो की स्थायी समिति के सदस्य के लिए आयु सीमा का नियम बतौर राष्ट्रपति 69 वर्षीय शी जिनपिंग पर लागू नहीं होता है।

अनिवार्य सेवानिवृत्ति की आयु किसी भी सीसीपी आधिकारिक रेगुलेशन या दस्तावेज में नहीं है।

कार्यकाल की सीमा को समाप्त करने वाले पार्टी के प्रस्ताव ने शी को पूर्व सीसीपी अध्यक्ष माओत्से तुंग की असीमित अवधि की श्रेणी में डाल दिया है। माओत्से तुंग ने 1935 से लेकर 9 सितंबर, 1976 को अपनी मृत्यु तक पार्टी के नेता के रूप में कार्य किया।

वीओए ने बताया, 2017 में शी ने 19वीं पार्टी कांग्रेस में एक सक्सेसर-इन-ट्रेनिंग (आगे के नेता) को बढ़ावा देने में कोई रूचि नहीं दिखाई। अगले वर्ष, उन्होंने पार्टी अध्यक्षों के लिए दो-अवधि की सीमा को समाप्त करने का प्रयास किया।

चीनी राजनीति के विशेषज्ञ और सैन डिएगो के कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में प्रोफेसर सुसान शिर्क ने कहा, शी जिनपिंग चीन को एक व्यक्तिगत तानाशाही में वापस ले जा रहे हैं।

जर्नल ऑफ डेमोक्रेसी में प्रकाशित 2018 के विश्लेषण में उन्होंने कहा, शी ने 2022 में अपने सामान्य दो कार्यकाल समाप्त होने के बाद पद पर बने रहने के अपने इरादे का इजहार किया है।

न्यूयॉर्क के सिटी यूनिवर्सिटी में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर जिया मिंग ने एक वीडियो इंटरव्यू में वीओए मंदारिन को बताया कि उन्हें नहीं लगता कि शी के पास अपना तीसरा कार्यकाल बरकरार रखने का सौ फीसदी मौका है।

उन्होंने कहा, मौजूदा घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय स्थिति के मद्देनजर, चीनी राजनीति में एक बड़े बदलाव की संभावना बढ़ गई है। इसलिए मुझे लगता है कि शी के पास तीसरा कार्यकाल सुरक्षित करने का चांस 50-50 है।

पीके/एसकेपी

Must Read: Rajasthan में कांग्रेस सरकार, माउंट आबू में कांग्रेस का बोर्ड बावजूद इसके Congress councilor ने नगर पालिका अधिकारियों से परेशान होकर सीएम को भेजा इस्तीफा

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :