भारत: प्रदूषण के खिलाफ दिल्ली के विंटर एक्शन प्लान में पराली, वाहनों और पटाखों का प्रदूषण शामिल

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने विंटर एक्शन प्लान तैयार करने को लेकर लिए गए कुछ प्रमुख निर्णयों के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सर्दियों में होने वाली प्रदूषण की समस्या के खिलाफ विंटर एक्शन प्लान की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इनमें पराली जलाना, धूल प्रदूषण, वाहनों से होने वाले प्रदूषण, ओपन कूड़ा बनिर्ंग, औद्योगिक प्रदूषण,ग्रीन वार रूम एवं ग्रीन ऐप, हॉट स्पॉट, रियल टाईम अपोरशमेंट स्टडी (आई.आई.टी. कानपुर द्वारा), स्मॉग टावर, ई-वेस्ट ईको पार्क, हरित क्षेत्र को बढ़ाना वृक्षारोपण, अर्बन फार्मिग, इको क्लब एक्टीविटी, पटाखे नियंत्रण, केन्द्र सरकार एवं पड़ोसी राज्यों के साथ संवाद जैसे 15 बिंदु शामिल हैं।

प्रदूषण के खिलाफ दिल्ली के विंटर एक्शन प्लान में पराली, वाहनों और पटाखों का प्रदूषण शामिल
air pollution
नई दिल्ली, 25 अगस्त (आईएएनएस)। प्रदूषण के खिलाफ दिल्ली में विंटर एक्शन प्लान तैयार किया जा रहा है। इस वर्ष का विंटर एक्शन प्लान, पराली व कूड़ा जलाने, वाहन व धूल प्रदूषण, हॉटस्पॉट, स्मॉग टावर, केंद्र सरकार और पड़ोसी राज्यों से संवाद, ग्रीन वाररूम व ग्रीन एप को उन्नत बनाने जैसे 15 फोकस बिंदुओं पर आधारित है। इसके साथ ही 5 सितंबर को 33 संबंधित विभागों के साथ समीक्षा बैठक कर निर्धारित फोकस बिंदुओं पर संयुक्त कार्ययोजना तैयार की जाएगी। इस वर्ष जन भागीदारी के द्वारा प्रदूषण को नियंत्रित करना दिल्ली सरकार का मुख्य उद्देश्य रहेगा।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने विंटर एक्शन प्लान तैयार करने को लेकर लिए गए कुछ प्रमुख निर्णयों के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सर्दियों में होने वाली प्रदूषण की समस्या के खिलाफ विंटर एक्शन प्लान की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इनमें पराली जलाना, धूल प्रदूषण, वाहनों से होने वाले प्रदूषण, ओपन कूड़ा बनिर्ंग, औद्योगिक प्रदूषण,ग्रीन वार रूम एवं ग्रीन ऐप, हॉट स्पॉट, रियल टाईम अपोरशमेंट स्टडी (आई.आई.टी. कानपुर द्वारा), स्मॉग टावर, ई-वेस्ट ईको पार्क, हरित क्षेत्र को बढ़ाना वृक्षारोपण, अर्बन फार्मिग, इको क्लब एक्टीविटी, पटाखे नियंत्रण, केन्द्र सरकार एवं पड़ोसी राज्यों के साथ संवाद जैसे 15 बिंदु शामिल हैं।

पर्यावरण मंत्री ने कहा कि 15 फोकस बिंदुओं में पहली पराली की समस्या है। आगामी दिनों में पराली जलाने की समस्या को केंद्र बिंदु बनाकर काम किया जाएगा। दूसरा, धूल प्रदूषण है। तीसरा वाहनों से होने वाले प्रदूषण को केंद्रित करते हुए काम किया जाएगा।

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बताया की दिल्ली के अंदर कई प्रमुख एजेन्सिया कार्यरत है,जिनकी अलग-अलग भूमिका होती है। इन सभी 33 विभागों के साथ संयुक्त बैठक 5 सितम्बर को आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। इस बैठक में एमसीडी, एनडीएमसी, कैंटोनमेंट बोर्ड, डीडीए, सीपीडब्ल्यूडी, पीडब्ल्यूडी, ट्रैफिक पुलिस, ट्रांसपोर्ट विभाग, पर्यावरण विभाग, विकास विभाग के सभी उच्च अधिकारी मौजूद रहेंगे।

इस बैठक का मुख्य मकसद दिल्ली के अंदर प्रदूषण के खिलाफ इस जंग में संयुक्त कार्य योजना का निर्माण करना है। 5 सितम्बर को होने वाली बैठक में अलग अलग विभागों को विंटर एक्शन प्लान के तहत निर्धारित किये गए 15 फोकस बिंदुओं के आधार पर विशिष्ट कार्य सौपे जाएंगे। जिसके अनुरूप दिल्ली सरकार इस वर्ष का विंटर एक्शन प्लान तैयार करेगी।

--आईएएनएस

जीसीबी/एएनएम

Must Read: सलाखों के पीछे पार्थ और अर्पिता, कोर्ट ने फिर दी 14 दिन की न्यायिक हिरासत 

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :