भारत: केंद्र ने बीएस-6 कारों में सीएनजी या एलपीजी किट को रेट्रोफिट की अनुमति दी

केंद्र ने बीएस-6 कारों में सीएनजी या एलपीजी किट को रेट्रोफिट की अनुमति दी
नई दिल्ली, 23 अगस्त (आईएएनएस)। वैकल्पिक ईंधन को बढ़ावा देने पर जोर दे रही केंद्र सरकार ने कहा है कि बीएस-6 कारें अब सीएनजी या एलपीजी किट को रेट्रोफिट (वापस लेना) कर सकेंगी।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने बीएस (भारत चरण)-6 गैसोलीन वाहनों में सीएनजी और एलपीजी किट के रेट्रोफिटमेंट के बारे में और बीएस-6 वाहनों के मामले में, जो 3.5 टन से कम हैं, डीजल इंजनों को सीएनजी/एलपीजी इंजन के साथ बदलने के बारे में अधिसूचना जारी की है।

मंत्रालय ने एक आधिकारिक बयान में कहा, अभी तक, बीएस-4 उत्सर्जन मानदंडों का पालन करने वाले मोटर वाहनों में सीएनजी और एलपीजी किट के रेट्रोफिटमेंट की अनुमति है।

नियम कहता है कि 3.5 टन से कम वजन वाले डीजल वाहनों में सीएनजी या एलपीजी से चलने वाले इंजन लगाए जा सकते हैं।

इस पहल का उद्देश्य वायु प्रदूषण को कम करना है। हालांकि, नया नियम जहां अधिक वाहन मालिकों को सीएनजी किट वापस लेने की अनुमति देगा, वहीं सीएनजी की आसान उपलब्धता का मुद्दा उपयोगकर्ताओं के बीच एक चिंता का विषय बना हुआ है। कई शहरों में सीएनजी स्टेशनों में पर्याप्त वृद्धि के बावजूद, कई सीएनजी फिलिंग स्टेशनों पर वाहनों की लंबी कतार एक आम बात है।

सरकार जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम करने के लिए वैकल्पिक ईंधन जैसे सीएनजी, जैव ईंधन, एलएनजी, इलेक्ट्रिक चाजिर्ंग आदि को बढ़ावा दे रही है।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, विभिन्न अधिकृत संस्थाओं द्वारा स्थापित सीएनजी स्टेशनों की संख्या 2014 में 938 से बढ़कर मई 2022 में 4,531 हो गई है।

इसके अलावा, अंतरराष्ट्रीय बाजार ने भारत में घरेलू गैस की कीमतों को प्रभावित करते हुए, लघु और मध्यम अवधि में प्राकृतिक गैस की कीमतों में उल्लेखनीय वृद्धि देखी है। इसके बदले में, प्राकृतिक गैस के संपीड़न (दबाव या कंप्रेशन) द्वारा निर्मित सीएनजी की कीमतों पर असर पड़ा है।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Must Read: शिरडी में मूसलाधार बारिश का तांडव, साईं प्रसादालय जलमग्न, कई गांवों का संपर्क कटा

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :