भारत: तृणमूल कांग्रेस 25वीं वर्षगांठ पर छात्र इकाई के सदस्य बनने की आयु सीमा घटा सकती है

कोलकाता, 22 अगस्त (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस 25वीं वर्षगांठ के मौके पर छात्र इकाई तृणमूल छात्र परिषद (टीएमसीपी) का सदस्य बनने के लिए आयु सीमा घटाकर 25 वर्ष तय कर सकती है।जब कोई छात्र नेता 25 वर्ष आयु का हो जाएगा तो

तृणमूल कांग्रेस 25वीं वर्षगांठ पर छात्र इकाई के सदस्य बनने की आयु सीमा घटा सकती है
कोलकाता, 22 अगस्त (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस 25वीं वर्षगांठ के मौके पर छात्र इकाई तृणमूल छात्र परिषद (टीएमसीपी) का सदस्य बनने के लिए आयु सीमा घटाकर 25 वर्ष तय कर सकती है।

जब कोई छात्र नेता 25 वर्ष आयु का हो जाएगा तो उसे पार्टी की युवा शाखा, तृणमूल युवा कांग्रेस में दाखिला लेने का मौका मिलेगा। इस समय पार्टी में छात्र नेताओं की औसत आयु 30 या उससे अधिक है।

नेतृत्व के संज्ञान में यह भी आया है कि कुछ नेता छात्रसंघ नेतृत्व में बने रहने के मकसद से साल दर साल परीक्षा छोड़ रहे थे। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, पार्टी नेतृत्व इन सभी चीजों की जांच करना चाहता है और इसलिए टीएमसीपी से जुड़े रहने के लिए अधिकतम आयु सीमा 25 साल तय करने पर विचार कर रहा है।

विभिन्न शिक्षण संस्थानों में छात्र संघों को स्थानीय नेताओं, पार्षदों और पार्टी विधायकों के प्रभाव से मुक्त कराने का भी प्रयास किया जाएगा।

पार्टी नेतृत्व द्वारा की गई गणना के अनुसार, आम तौर पर एक छात्र अधिकतम 25 वर्ष की आयु में अपना स्नातकोत्तर पूरा करता है और इसलिए उस तर्क के अनुसार इस पार्टी के छात्र विंग से जुड़े रहने की ऊपरी आयु सीमा 25 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।

पश्चिम बंगाल में टीएमसीपी के प्रदेश अध्यक्ष, त्रिनंकुर भट्टाचार्य ने परोक्ष रूप से स्वीकार किया कि इस तरह के घटनाक्रम चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे 29 अगस्त, 2022 को एक बड़ी रैली का आयोजन करेंगे और उसमें पार्टी सुप्रीमो ममता बनर्जी छात्र सदस्यों को निर्देश देंगी।

भट्टाचार्य ने कहा, हमारी सालगिरह की तारीख 28 अगस्त है। लेकिन चूंकि यह रविवार को पड़ रहा है, इसलिए हम 29 अगस्त को रैली का आयोजन करेंगे। मुख्यमंत्री रैली को संबोधित करेंगी और आवश्यक घोषणाएं करेंगी। यह भी उम्मीद की जाती है कि वह 2024 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर छात्रों को निर्देश देंगी।

उन्होंने यह भी कहा, महामारी की स्थिति के कारण पिछले दो वर्षो से पार्टी की जयंती रैली का आयोजन नहीं किया जा सका। इसलिए इस बार हमारा लक्ष्य मुख्यमंत्री को रिकॉर्ड मतदान का उपहार देना है।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Must Read: झारखंड में सीएम कुर्सी संकट के बीच कांग्रेस बोली: चुनाव आयोग के फैसले का होगा स्वागत

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :