Congress Bharat Jodo Yatra: कन्याकुमारी से कश्मीर तक कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का आगाज, राहुल गांधी ने दिखाई हरी झंडी, 150 दिनों में होगी पूरी

कांग्रेस पार्टी की ये पैदल यात्रा पार्टी में एक बार फिर से नई जान फूंकने के लिए शुरू की गई है जो 3500 किलोमीटर की होगी जिसे 150 दिनों में पूरा किया जाएगा।

कन्याकुमारी से कश्मीर तक कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का आगाज, राहुल गांधी ने दिखाई हरी झंडी, 150 दिनों में होगी पूरी

नई दिल्ली | भाजपा की मोदी सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए विपक्षी दल कमर कसते हुए दिखाई दे रहे हैं। जहां नीतिश कुमार ने आज शरद पवार से मुलाकात की और मोदी सरकार के खिलाफ सबको साथ आने का निमंत्रण दिया वहीं कांग्रेस ने भी आज बुधवार से ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का आगाज कर दिया है। साल 2024 के लोकसभा चुनावों को देखते हुए कांग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी ने कन्याकुमारी से इस यात्रा को हरी झंडी दिखाई। इस यात्रा का अंतिम पड़ाव कश्मीर होगा। 

3500 किलोमीटर की ये पैदल यात्रा 150 दिनों में होगी पूरी
कांग्रेस पार्टी की ये पैदल यात्रा पार्टी में एक बार फिर से नई जान फूंकने के लिए शुरू की गई है जो 3500 किलोमीटर की होगी जिसे 150 दिनों में पूरा किया जाएगा। बता दें कि, कांग्रेस की यह पैदलयात्रा 11 सितंबर को केरल पहुंचेगी और अगले 18 दिनों तक राज्य से होते हुए 30 सितंबर को कर्नाटक पहुंचेगी। कांग्रेस की इस ‘भारत जोड़ो यात्रा’ को लेकर सोनिया गांधी काफी उत्साहित हैं। उन्होंने कहा कि, यह गौरवशाली विरासत वाली हमारी महान पार्टी के लिए ऐतिहासिक अवसर है और मुझे उम्मीद कि यह हमारे संगठन के लिए संजीवनी का काम करेगा। वो खुद भी इसमें पूरे दिल से शिरकत करेंगी।

ये भी पढ़ें:- नोएडा में भीषण आग से घिरी बिल्डिंग, कई लोग फंसे, धुंए की चपेट में फायर सुरक्षा अधिकारी भी आया

राहुल बोले- भारत के करोड़ों लोग ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की जरूरत महसूस कर रहे हैं
बुधवार को कन्याकुमारी से ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का आगाज करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि, आज़ादी के इतने साल बाद भी कांग्रेस ही नहीं, बल्कि भारत के करोड़ों लोग ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की जरूरत महसूस कर रहे हैं। राहुल ने कहा कि, झंडे में तीन रंग और चक्र आसानी से हमें नहीं मिला। इसे अर्नेड किया गया है। इसके ये रंग हर भारतीय के धर्म और भाषा को दर्शातें हैं। यह झंडा सिर्फ एक समुदाय से बिलान्ग नहीं करता, बल्कि यह सभी समुदायों और धर्मों से जुड़ा हुआ है। इससे पूर्व राहुल गांधी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की और एक प्रार्थना सभा में शामिल हुए।

ये भी पढ़ें:- बच्चों का सवरेगा भविष्य: ‘पीएम श्री’ योजना को मोदी कैबिनेट की हरी झंडी, स्कूलों की होगी कायापलट

Must Read: वन विभाग बब्बर शेर त्रिपुर में नहीं बता रहा कोविड के लक्षण, आईवीआरआई ने दी थी कोरोना पाॅजिटिव रिपोर्ट, अब दोबारा भेजे सैंपल 

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :