पिंडवाडा में रेस्क्यू सेंटर का उद्घाटन: वन विभाग की हॉफ ने किया पिंडवाड़ा रेस्क्यू सेंटर का उद्घाटन, श्रेष्ठ कार्य के लिए फारेस्ट गार्ड अंजू को किया सम्मानित

सिरोही जिले के पिंडवाड़ा में नव निर्मित वन्यजीव रेस्क्यू एवं रिहैबिलिटेशन सेन्टर का उद्घाटन रविवार को राजस्थान वन विभाग की सर्वोच्च अधिकारी हेड ऑफ फारेस्ट फ़ोर्स (हॉफ) श्रुति शर्मा ने किया। इस दौरान साथ में सीसीएफ जोधपुर संभाग SVR मुर्थी भी मौजूद रहे।

वन विभाग की हॉफ ने किया पिंडवाड़ा रेस्क्यू सेंटर का उद्घाटन, श्रेष्ठ कार्य के लिए फारेस्ट गार्ड अंजू को किया सम्मानित

पिंडवाड़ा सिरोही (धीरज माली)।
सिरोही जिले के पिंडवाड़ा में नव निर्मित वन्यजीव रेस्क्यू एवं रिहैबिलिटेशन सेन्टर का उद्घाटन रविवार को राजस्थान वन विभाग की सर्वोच्च अधिकारी हेड ऑफ फारेस्ट फ़ोर्स (हॉफ) श्रुति शर्मा ने किया। इस दौरान साथ में सीसीएफ जोधपुर संभाग SVR मुर्थी भी मौजूद रहे। हॉफ के इस दौरे को लेकर सिरोही डिवीजन के तमाम वनाधिकार यहाँ मौजूद रहे। हॉफ के आगमन पर रेंज आफिस पिंडवाड़ा में वन विभाग के अमले ने सलामी देकर उनका स्वागत किया।

हॉफ ने इस उद्घाटन समारोह में फारेस्ट गार्ड अंजू चौहान के कार्य की काफी सराहना की एवं श्रेष्ठ कार्य करने के लिए फारेस्ट गार्ड अंजू चौहान को सम्मानित भी किया। पिंडवाड़ा में निर्मित यह रेस्क्यू सेन्टर तमाम आधुनिक सुविधाओं से युक्त है। इसकी 24 घंटे सीसीटीवी कैमरों से मोनिटरिंग की जा सकेगी। राजस्थान में यह रेस्क्यू सेंटर अपनी एक अलग ही पहचान बना रहा है जो एक आदर्श रेस्क्यू सेंटर के रूप में उभरता नजर आ रहा है। इस कार्यक्रम में सिरोही DFO विजय शंकर पांडे, ACF सुनील गुप्ता, तमाम रेंजर्स, फोरेस्टर्स, फारेस्ट गार्ड सहित PFA से अमित देओल, शान्तिलाल माली, आदि मौजूद रहे।

फॉरेस्ट गार्ड ने स्वयं के खर्चे से तैयार कर दिया सेंटर
पिंडवाड़ा क्षेत्र के आसपास वन्यजीव बाहुल्य होने से यहां अक्सर कई वन्यजीव रेस्क्यू करने की पिछले लंबे समय से जरूरत पड़ रही है। ऐसे में अक्सर वन्यजीव को बचाने के लिए सुविधाओं के अभाव में कई दिक्कतें आ रही थी। कुछ समय पूर्व ही पिंडवाड़ा रेंज के कोजरा क्षेत्र में मोरों के बीमार होने व मरने की लगातार घटनाएं हुई। जिसके बाद रेस्क्यू के कार्य में लगी यहाँ की कार्मिक फारेस्ट गार्ड अंजू चौहान ने एक नया रेस्क्यू सेंटर निर्माण करने का फैसला लिया। बस तभी से जी जान से जुट गई और स्वयं के खर्चे से पिंडवाड़ा में नया रेस्क्यू सेंटर बना दिया। 

इसलिए पिंडवाड़ा का रेस्क्यू सेंटर खास

पिंडवाड़ा में बना रेस्क्यू सेंटर तमाम आधुनिक सुविधाओं से युक्त है। यहाँ आवश्यक के अनुसार विशेष तरह के पिंजरे बनाये गए है। साथ ही पूरा सेन्टर सीसीटीवी कैमरा की निगरानी में है। इसके अलावा यहां अलग अलग तकनीक से रेस्क्यू किये गए पक्षियों को खाना खिलाने के औजार भी मौजूद है एवं कई तरह की मेडिकल सुविधाओं का भी समावेश किया गया है। फॉरेस्ट गार्ड अंजू चौहान ने स्वयं के स्तर पर प्रयास कर सारे संसाधन जुटाए है। अंजू चौहान के कार्य से प्रभावित होकर हॉफ एवं सीसीएफ जोधपुर ने उनकी काफी सराहना की।

पहली बार सर्वोच्च वनाधिकारी पहुंचे पिंडवाड़ा 
पिंडवाड़ा रेंज में ऐसा पहली बार हुआ है कि राजस्थान के सर्वोच्च वनाधिकार ने यहाँ दौरा किया हो। हॉफ के इस दौरे से रेंज के सारे कार्मिक काफी उत्साहित नजर आ रहे थे। हॉफ श्रुति शर्मा ने भी फॉरेस्ट गार्ड अंजू चौहान के जज्बे की काफी प्रशंसा की और वन्य जीव संरक्षण के काम के लिए उन्हें व तमाम वन विभाग के स्टाफ को उत्साहित किया।

Must Read: पुलिया से गिरी हरियाणा रोडवेज बस, 2 की मौत, कई घायल

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :