तालिबानी हुकूमत का राइट इफेक्ट: किसानों को प्याज के बाजार में दिख रहा बड़ा फायदा, अफगानिस्तान से प्याज भारत आना अब मुश्किल

भारत में फसल खराब होने की स्थिति के बाद ही अफगानिस्तान से प्याज आयात किया जाता है। यह इसलिए ताकि प्याज के भाव इतने अधिक नहीं हो कि महंगाई के रूप में सरकार को घेरा जाने लगे।

किसानों को प्याज के बाजार में दिख रहा बड़ा फायदा, अफगानिस्तान से प्याज भारत आना अब मुश्किल

रोहित पारीक
पाली। अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे की वजह से भारत के प्याज उत्पादक किसानों को इस कारोबार में बड़ा मुनाफा दिखने लगा है। कई सरकारों को ऊपर-नीचे कर चुके प्याज के दाम किसानों को हजारों-करोड़ का फायदा दिला सकते है। अफगानिस्तान में तालिबान की हुकूमत के बाद यह माना जा रहा है कि इस साल अफगानिस्तान की प्याज भारत आना नामुमकिन है। देश में प्याज की पैदावार करने वाले राजस्थान के प्रमुख जिलों में किसानों ने प्याज की खेती में करोड़ों रुपए लगा दिए हैं। 
देश में कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश व राजस्थान में सबसे अधिक प्याज होता है। प्याज के भावों में उछाल रहा तो इन राज्यों के किसानों को हजारों करोड़ रुपए का फायदा हो सकता है। पिछली बार कर्नाटक में प्याज खराब होने से भाव ज्यादा थे। इस बार अफगानिस्तान से प्याज नहीं पहुंचने की उम्मीद में ज्यादा भाव का अनुमान लगाया जा रहा है। अन्य राज्यों में प्याज के खराब होने की खबर कम है। भाव बहुत अधिक रहने के चांस कम हैं।
वर्ष 2019 में भारत में प्याज के भाव 100 रुपए किलो से अधिक हो गए थे। इसके बाद भारत ने अफगानिस्तान से करीब 2 हजार टन प्याज का आयात किया था। इसके बाद भाव 50 से 55 रुपए किलो तक आ गए थे। उस समय केंद्र सरकार ने महंगाई के मुद्दे पर यह कदम उठाया था। अब सरकार के पास अफगान से प्याज के आयात का विकल्प पहले की तरह आसान नहीं है।
भारत में अफगान से जरूरत के अनुसार प्याज का आयात किया जाता है। जरूरी नहीं कि हर साल प्याज अफगान से आयात हो। कई बार देश के कुछ राज्यों में प्याज की फसल खराब होने पर प्याज के भाव बढऩे पर ही आयात किया जाता है। 2020 में अफगान से प्याज को आयात करने की जरूरत नहीं पड़ी।
अफगान से इसलिए आता है प्याज
भारत में फसल खराब होने की स्थिति के बाद ही अफगानिस्तान से प्याज आयात किया जाता है। यह इसलिए ताकि प्याज के भाव इतने अधिक नहीं हो कि महंगाई के रूप में सरकार को घेरा जाने लगे। कोरोना महामारी में किसानों को सब्जी की खेती में बड़ा नुकसान हुआ था। अब उसकी भरपाई करने के लिए प्याज पर मोटा दांव खेला जा रहा है। अन्य सालों की तुलना में इस बार प्याज की 25 प्रतिशत ज्यादा बुआई हो गई है। 
बुआई पर 65 से 70 हजार रुपए तक खर्च
एक बीघा खेत में प्याज लगाने और पैदा होने तक करीब 65 से 70 हजार रुपए खर्च आएगा। किसानों को उम्मीद है कि प्याज का भाव अच्छा रहा तो 1 बीघा में 1.50 लाख रुपए तक की प्याज की पैदावार हो सकती है। प्याज का भाव कम रहा तो किसान कर्ज में भी दब सकते हैं। यह एक तरह का जुआ है। भाव अच्छे रहे तो एक बीघा के खेत में सब खर्च काटकर 70 से 80 हजार रुपए आसानी से कमा सकेंगे। भाव कम रहा तो 70 हजार रुपए की लागत निकालना भी मुश्किल हो जाएगा। फिलहाल, प्याज के बीज पर किसानों को 7 हजार रुपए प्रति क्विंटल खर्च करना पड़ रहा है। 1 बीघा खेत में 42 हजार रुपए प्याज के बीज पर खर्च कर रहे हैं। कहीं प्याज का बीज 4 हजार रुपए प्रति क्विंटल है तो कहीं 7 हजार रुपए तक भाव हैं। इसके बाद मजदूरी, खाद, दवा व बाजार पहुंचाने का खर्च अलग है। सब मिलाकर एक बीघा में 65 से 70 हजार रुपए का खर्च आ रहा है। 
एक बीघा में 125 कट्टे तक
एक बीघा में अच्छी पैदावार होने पर 125 कट्टे तक प्याज हो जाता है। एक कट्टे में 50 किलो प्याज होता है। औसतन एक बीघा में 80 कट्टे प्याज पैदा होता है। भाव अच्छे मिलने पर किसान की कमाई हो सकती है। वरना खर्च भी ज्यादा होता है। इस कारण भरपाई भी नहीं हो पाती है। दो साल पहले भाव इतने अधिक हो गए थे कि एक बीघा के खेत में ही किसानों ने 2 से 3 लाख रुपए तक प्याज बेचा है। उसी उम्मीद में इस बार भी किसानों ने कई गुना अधिक प्याज की बुआई की है। इस समय भी सैकड़ों हेक्टेयर में प्याज की बुआई जारी है।
किसान बोले सब भाव पर निर्भर
जैतारण क्षेत्र के किसान मोहम्मद हसन का कहना है कि प्याज के भावों पर सब निर्भर करता है। मेवात में कहावत है कि प्याज को घरो प्याज ही भरै। मतलब प्याज का घाटा प्याज ही भरता है। प्याज की खेती में किसानों को नुकसान भी मोटा होता है, लेकिन जब कभी भाव बढ़ते हैं तो कमाई भी मोटी हो जाती है। इस लालच में किसान हर साल जुआ खेलते हैं। प्याज की खेती छोटे किसानों की क्षमता से बाहर है। असल में नुकसान भी मोटा होता है। इस कारण वे रिस्क नहीं लेते हैं। प्याज के व्यापारी रामकिशन अग्रवाल का कहना है कि कोरोना में प्याज के भाव अच्छे मिले थे, जिसका कारण कर्नाटक में प्याज खराब होना था, लेकिन इस बार पैदावार ज्यादा है। पुराना प्याज का स्टॉक भी है, इसलिए बहुत अच्छे भाव मिलने को लेकर कुछ कहा नहीं जा सकता। यह एक तरह से जुआ है।

Must Read: जालोर में दलित छात्र की मौत मामले में 36 कौम की महा बैठक

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :