महामारी में मानवता शर्मसार : शिवगंज में रेमडेसीवीर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी : 50 से 60 हज़ार में बेचा जा रहा इंजेक्शन

कोरोना के इस महासंक्रमण काल में कुछ लोगो के लिए मानो रेमडेसीवीर इंजेक्शन रातो रात करोड़पति बनने का ऑफर लेकर आ गया हैं। जहाँ एक तरफ लोग रेमडेसीवीर इंजेक्शन के लिए एक मेडिकल से दूसरे मेडिकल और एक हॉस्पिटल से दूसरे हॉस्पिटल की खाक छान रहे हैं।

शिवगंज में रेमडेसीवीर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी  : 50 से 60 हज़ार में बेचा जा रहा इंजेक्शन
  • रेमडेसीवीर इंजेक्शन की हो रही कालाबाज़ारी

  • एक इंजेक्शन बेच रहे 50 से 60 हज़ार रुपये में

  • आमजन से लूट के इस खेल में जिम्मेदार बने हुए हैं मूकदर्शक

सिरोही।

कोरोना के इस महासंक्रमण काल में कुछ लोगो के लिए मानो रेमडेसीवीर इंजेक्शन रातो रात करोड़पति बनने का ऑफर लेकर आ गया हैं। जहाँ एक तरफ लोग रेमडेसीवीर इंजेक्शन के लिए एक मेडिकल से दूसरे मेडिकल और एक हॉस्पिटल से दूसरे हॉस्पिटल की खाक छान रहे हैं। वही कुछ लोग हैं जो remdesivir इंजेक्शन की कालाबाज़ारी कर रातों रात करोड़पति बनने का जरिया बना दिया हैं। एक ऐसे ही कालाबाज़ारी करने वाले मेडिकल स्टोर का स्टिंग ऑपरेशन कर हमारी टीम ने बड़ा खुलासा किया हैं। 

राजस्थान प्रदेश का एक छोटा सा जिला सिरोही... सिरोही जिले में भी रेमडेसीवीर की किल्लत ने कालाबाज़ारियों का लालच  इतना बढ़ा दिया कि यहां ये इंजेक्शन 50 से 60 हज़ार रुपए में बेचकर कोरोना जैसी महामारी में आमजन की जेब पर डाका डालने का घिनोना कार्य किया जा रहा हैं। सिरोही जिले के शिवगंज शहर के कुटुंब कॉलोनी स्थित वीनस मेडिकॉज नामक दुकान पर ये कार्य बेझिझक किया जा रहा हैं। यहां एक एक रेमडेसीवीर इंजेक्शन 50 हज़ार से 60 हज़ार में बेचा जा रहा हैं। इस पूरे कृत्य की जब हमारी टीम को शिकायत मिली तो हमारी टीम ने खुद मौके पर जाकर इसका पूरा स्टिंग ऑपरेशन किया। 

हमारी टीम के सदस्य ने जब इस मेडिकल स्टोर संचालक से फोन पर बातचीत की तो इसने हमें रेमडेसीवीर इंजेक्शन उपलब्ध होना बताया। साथ ही कहा कि मरीज की पर्ची और उसकी आईडी के लिए आधारकार्ड साथ लाना अनिवार्य होगा।  इसके लिए हमने एक मरीज की पर्ची का सहारा लेकर इस मेडिकल की दुकान पर जाकर इस इंजेक्शन की मांग की। दुकान के केश काउंटर पर बैठे व्यक्ति ने बिना किसी डर या भय के हमें इस इंजेक्शन के 50 हज़ार रुपए की मांग की।  आपको यहां यह जानकर और भी हैरानी होगी जब हमारे रिपोर्टर ने 50 हज़ार केश साथ में नही होने की बात की तो उसने गूगल पे से पेमेंट करने की बात की।  दुकानदार ने अपने सेल्समैन के गूगल पे एकाउंट पर पेमेंट ट्रांसफर करने की बात की... देखिए स्टिंग ऑपरेशन में गूगल पे से पेमेंट ट्रांसफर भी किया जा रहा हैं। हमारे रिपोर्टर ने कहा 10 हज़ार केश दे देता हूँ और 40 हज़ार गूगल पे से ट्रांसफर कर देता हूँ। 

ऐसे हुआ Sting opretion  

एक मेडिकल स्टोर वाला व्यक्ति किस प्रकार से 1500 की दवाई के 50 हज़ार वसूल कर रहा हैं। जिस समय हमारी टीम यहां स्टिंग ऑपरेशन कर रही थी, उसी वक्त इस मेडिकल संचालक के पास एक फोन आता हैं। जो 6 रेमडेसीवीर इंजेक्शन के बारे में पूछताछ करता हैं। तब ये मेडिकल संचालक उसे भी बिना किसी डर के सीधे फोन पर बता रहा हैं कि एक इंजेक्शन के 60 हज़ार रुपये और 6 चाहिए तो 3 लाख 60 हज़ार रुपये लगेंगे।

मेडिकल संचालक तो यह कहने से भी नही डरता कि उसके खुद के पास ये इंजेक्शन ब्लैक में आ रहे हैं। जिसका वो खुद 40 हज़ार प्लस टैक्स चुका रहा हैं। यानी लोगो को ठगने के लिए इस मेडिकल संचालक ने शानदार स्क्रिप्ट तैयार कर रखी हैं। ताकि लोग इसकी बातों में आकर उसे 50 से 60 हज़ार रुपये देने के लिए मजबूर हो जाए।  रेमडेसीवीर की कालाबाज़ारी रोकने के सरकार कितने भी दावे कर ले, पर रेमडेसीवीर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी रुकने का नाम नही ले रही।

सिरोही जिले के शिवगंज शहर में स्थित वीनस मेडिकॉज का ऑनर क्षितिज मेवाड़ा खुलेआम इस रेमडेसीवीर इंजेक्शन की  कालाबाज़ारी कर रहा हैं।  जिसकी शहर के बच्चे बच्चे को खबर हैं, पर जिम्मेदार इस पर कोई कार्रवाई नही कर रहे हैं।  इस शख्स से आप अगर फोन पर भी इस इंजेक्शन की मांग करेंगे तो ये व्यक्ति बेझिझक आपको रेमडेसीवीर इंजेक्शन बेचने और उसकी कीमत 50 हज़ार से 60 हज़ार रुपये बताने से नही डरेगा।  पर सिरोही जिला प्रशासन, सिरोही का चिकित्सा महकमा या शिवगंज उपखण्ड प्रशासन या पुलिस प्रशासन सिर्फ मूकदर्शक बनकर आमजन को लूटते देख रहा हैं। अब हमारे इस स्टिंग ऑपरेशन के बाद प्रशासन क्या कार्रवाई करता हैं, ये देखने वाली बात होगी।