सिपेट -कौशल एवं तकनीकी संस्थान जयपुर: प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन कार्यशाला में महिलाओं को री साइक्लिंग की दी जानकारी, पर्यावरण को स्वच्छ बनाने में मिलेगा योगदान

भारत सरकार के कौशल एवं तकनीकी सहायता केंद्र जयपुर तथा महिला अधिकारिता विभाग जयपुर की ओर से प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन पर द्वितीय तीन दिवसीय कार्यशाला गुरुवार का शुरू हुई। कार्यशाला का शुभारंभ अपर निदेशक प्रीति माथुर ने किया।

प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन कार्यशाला में महिलाओं को री साइक्लिंग की दी जानकारी, पर्यावरण को स्वच्छ बनाने में मिलेगा योगदान

जयपुर। 
भारत सरकार के कौशल एवं तकनीकी सहायता केंद्र जयपुर तथा महिला अधिकारिता विभाग जयपुर की ओर से प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन पर द्वितीय तीन दिवसीय कार्यशाला गुरुवार का शुरू हुई। कार्यशाला का शुभारंभ अपर निदेशक प्रीति माथुर ने किया। प्रिति माथुर ने कहा कि महिला अधिकारिता विभाग की ओर से सिपेट के माध्यम से महिलाओं को प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन के संबंध में जानकारी दी जा रही है। इस कार्यशाला में महिलाओं को प्लास्टिक कचरे के प्रबंधन की जानकारी देकर समाज की महिलाओं को आय का माध्यम बनाने की सलाह दी जा रही है। उन्होंने महिलाओं से अपील की कि पर्यावरण स्वच्छ बनाने की दिशा में वे प्लास्टिक अपशिष्ट के निस्तारण को लेकर जागरूकता फैला सकती है। 
एमएसएमई विकास संस्थान जयपुर के एमके मीना ने महिलाओं को वेस्ट से स्वरोजगार के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम के दौरा एमिटी यूनिवर्सिटी के वाइंस चांसलर प्रोफेसर अमित जैन ने कहा कि वेस्ट के री साइक्लिंग से रोजगार मिलने के साथ ही पर्यावरण को भी संतुलित करने में मदद मिलती हैे। पूर्णिमा यूनिवर्सिटी के डीन डॉ रेखा नायर ने कहा कि इस कार्यशाला के माध्यम से प्रदूषण के निदान में सहयोग मिलेगा। संस्था प्रबंधक बिष्णु पांडा व अनुपम ने बताया कि कार्यशाला के तहत प्रदेश भर से आई ​महिलाओं को प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट के बारे में बताया जाएगा। कार्यशाला का संचालन दीपक शर्मा ने किया।  संस्था के निदेशक संजय चौधरी ने शुभारंभ के अवसर पर अतिथियों का स्वागत किया। 

Must Read: आत्मबल और परिवार के विश्वास से खुशाल ने जीती मुश्किल जंग, विधायक ने हर कदम पर किया सहयोग

पढें लाइफ स्टाइल खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :