धमाकों से गूंजा भारत-पाकिस्तान बॉर्डर: एडवांस टोड आर्टिलरी गन सिस्टम का सफल परीक्षण

राजस्थान के जैसलमेर के पोकरण में एडवांस टोड आर्टिलरी गन सिस्टम एटीएजीएस का परीक्षण किया गया। यह परिक्षण लगातार सात दिनों तक चला, जिसमें पाकिस्तान से लगी सीमा पर भारतीय तोपे गूंजती रही और पाकिस्तानी सरहद थर्राती रही।

एडवांस टोड आर्टिलरी गन सिस्टम का सफल परीक्षण
advanced towed artillery gun system

पोकरण | राजस्थान का पोकरण जिला पिछले सात दिनों से तोपों के धमाकों से गूंजता रहा। भारतीय सेना के हथियारों के परिक्षणों और युध्याभ्यास के लिए सबसे उपयुक्त स्थान माने जाने वाले राजस्थान के जैसलमेर के पोकरण में एडवांस टोड आर्टिलरी गन सिस्टम एटीएजीएस का परीक्षण किया गया। यह परिक्षण लगातार सात दिनों तक चला, जिसमें पाकिस्तान से लगी सीमा पर भारतीय तोपे गूंजती रही और पाकिस्तानी सरहद थर्राती रही। इस परिक्षण के जरिए भारत ने एक बार फिर से दुश्मन देशों को अपनी शक्ति का अहसास करा दिया है।

अबतक किए जा चुके 6 से 7 परीक्षण
भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा सरहद पर स्थित पोखरण फील्ड फायरिंग रेंज में हुए 155 मिमी/52 कैल एडवांस्ड टोड आर्टिलरी गन सिस्टम के सफतापूर्वक परीक्षण ने भारत की स्वदेशी शक्ति को भी दुनिया के सामने पेश किया। यह परीक्षण 26 अप्रेल से शुरू हुआ एटीएजीएस तोप का परीक्षण 2 मई को समाप्त हुआ। आपको बताना चाहेंगे कि, इस तोप का निर्माण करने वाली भारत में ही दो कंपनियां है। एक भारत फोर्ज लिमिटेड जबकि, दूसरी टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स लिमिटेड। इन दोनों कंपनियों की ओर से अबतक 6 से 7 परीक्षण किए जा चुके हैं। इस सफल परीक्षण से सेना को भविष्य की चुनौतियों से निपटने में मदद मिल सकेगी और सेना की मारक क्षमता भी मजबूत होगी।

48 किलोमीटर दूर तक साध सकती है शिाना
देश की सबसे लंबी दूरी तक वार करने में सक्षम ये तोप पूरी तरह से स्वदेशी है। इस सिस्टम को विकसित करने में करीब चार साल का समय लगा है। इस तोप का वजन 18 टन है और ये 48 किलोमीटर दूर तक दुश्मनों के इलाकों को आसानी से ढेर कर सकती है। सबसे पहले इस एटीएजीएस तोप का 26 जनवरी 2017 को निकाली जाने वाली गणतंत्र दिवस परेड में प्रदर्शन किया गया था। ये एटीएजीएस तोप माइनस 3 डिग्री तापमान में आसानी से गरज सकती है और 75 डिग्री तक एलिवेशन ले सकती है। 

Must Read: 7 देशों में खोले जा सकते हैं आईआईटी के ग्लोबल कैंपस

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :