सुप्रीम कोर्ट ने कहा : अविवाहित महिला के गर्भपात के अधिकार को मान्यता देने के लिए एमटीपी नियमों को ठीक करने की जरूरत

इस महीने की शुरूआत में, शीर्ष अदालत ने कहा था कि वह एमटीपी अधिनियम और उससे जुड़े नियमों की व्याख्या करेगी, यह देखने के लिए कि क्या अविवाहित महिलाओं को चिकित्सकीय सलाह पर 24 सप्ताह तक गर्भावस्था को समाप्त करने की अनुमति दी जा सकती है।

अविवाहित महिला के गर्भपात के अधिकार को मान्यता देने के लिए एमटीपी नियमों को ठीक करने की जरूरत
Supreme Court

नई दिल्ली, 23 अगस्त | सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि वह मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी (एमटीपी) अधिनियम और विवाहित और अविवाहित महिलाओं के बीच 24 सप्ताह की गर्भावस्था तक गर्भपात की अनुमति के बीच भेदभाव को खत्म करने के नियमों की व्याख्या करेगा।

न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़ ने कहा कि अदालत एमटीपी अधिनियम की व्याख्या पर फैसला सुरक्षित रख रही है और इसमें अविवाहित महिला या सिंगल वुमन शामिल होगी, जो उन्हें 24 सप्ताह तक गर्भपात की अनुमति देगी। पीठ ने कहा कि एमटीपी नियमों के प्रावधानों को ठीक करने की जरूरत है, और गर्भावस्था के 24 सप्ताह तक गर्भपात कराने के लिए पात्र महिलाओं की सात श्रेणियों में, यह उन महिलाओं की एक श्रेणी को जोड़ देगा जो वैवाहिक स्थिति की परवाह किए बिना परित्याग का शिकार होती हैं।

केंद्र की ओर से अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल ऐश्वर्या भाटी ने तर्क दिया कि एमटीपी (संशोधन) अधिनियम, 2021 के तहत कोई भेदभाव नहीं है और अधिनियम के तहत संबंधित नियमों में वर्गीकरण प्रदान किया गया है। उसने प्रस्तुत किया कि विशेषज्ञों के अनुसार, भ्रूण के लिंग निर्धारण के कारण पूर्व-गभार्धान और प्रसव पूर्व निदान तकनीक (पीसी-पीएनडीटी) अधिनियम सहित कानूनों के दुरुपयोग को रोकने के लिए वर्गीकरण किया गया है।

पीठ ने कहा कि उसके फैसले को इस तरह आकार दिया जाएगा कि पीसी-पीएनडीटी अधिनियम के प्रावधान कमजोर न हों।

केंद्र ने शीर्ष अदालत से कहा था कि वह मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी (एमटीपी) नियम, 2003 में हस्तक्षेप कर सकती है।

बेंच, जिसमें जस्टिस ए.एस. बोपन्ना और जेबी पारदीवाला शामिल थे, ने कहा कि अदालत नियम 3बी (सी) की व्याख्या इस तरह से कर सकती है कि वैवाहिक स्थिति में बदलाव एक व्यापक श्रेणी होनी चाहिए जिसमें एक विवाहित महिला जिसे छोड़ दिया गया है और एक अविवाहित भी शामिल होगी, जिसे परित्याग का सामना करना पड़ा।

यह नोट किया गया कि जिन महिलाओं को चिकित्सा उपकरण की विफलता के कारण अवांछित गर्भावस्था हुई, उन्हें 24 सप्ताह तक गर्भावस्था को समाप्त करने की अनुमति दी जानी चाहिए।

इस महीने की शुरूआत में, शीर्ष अदालत ने कहा था कि वह एमटीपी अधिनियम और उससे जुड़े नियमों की व्याख्या करेगी, यह देखने के लिए कि क्या अविवाहित महिलाओं को चिकित्सकीय सलाह पर 24 सप्ताह तक गर्भावस्था को समाप्त करने की अनुमति दी जा सकती है।

शीर्ष अदालत ने 21 जुलाई को एक 25 वर्षीय लड़की को आपसी सहमति से पैदा हुए 24 सप्ताह के गर्भ को गिराने की अनुमति दी थी।

Must Read: ‘मंकीपॉक्स’ की चिंताओं के बीच देश में आज सामने आए कोरोना के इतने मामले, ‘मंकीपॉक्स’ मरीज की भी मौत

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :