बांग्लादेश : ऊर्जा संकट ने बांग्लादेश को सरकारी दफ्तरों में काम का समय घटाने को प्रेरित किया

इस्लाम ने कहा, नए कार्यालय का समय बुधवार से शुरू होगा, और तब तक रहेगा जब तक कि ऊर्जा की स्थिति प्रबंधनीय नहीं हो जाती। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि शेड्यूल कब सामान्य हो सकेगा।

ऊर्जा संकट ने बांग्लादेश को सरकारी दफ्तरों में काम का समय घटाने को प्रेरित किया
Energy Crisis

ढाका | ईंधन संकट से जूझ रहे बांग्लादेश में ऊर्जा बचाने के लिए सरकारी कार्यालयों में कामकाज का समय घटाया जाएगा। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

समाचार एजेंसी डीपीए की रिपोर्ट के अनुसार, यूक्रेन और रूस के युद्ध से पैदा हुए वैश्विक ऊर्जा संकट के बीच देश ने ईंधन की कीमतों को रिकॉर्ड स्तर तक बढ़ाने के बाद यह निर्णय लिया है।

कैबिनेट सचिव खांडाकर अनवारुल इस्लाम के अनुसार, मंत्रिपरिषद ने काम के घंटों में कटौती करते हुए प्रतिदिन एक घंटे कम करने का फैसला किया।

राहुल गांधी के इनकार के बाद कई नाम सामने: कौन बनेगा कांग्रेस का अध्यक्ष, कई नामों पर विचार

इस्लाम ने कहा, नए कार्यालय का समय बुधवार से शुरू होगा, और तब तक रहेगा जब तक कि ऊर्जा की स्थिति प्रबंधनीय नहीं हो जाती। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि शेड्यूल कब सामान्य हो सकेगा।

उन्होंने कहा कि बैंकिंग का समय भी सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे के बजाय सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक निर्धारित किया गया है।

परिषद ने अनुरोध किया कि स्कूल और विश्वविद्यालय वीकेंड की छुट्टी एक के बजाय दो दिन देना शुरू करें।

राजनीतिक गलियारों में हलचल: 200 वाहनों के काफिले के साथ सचिन पायलट मिलने पहुंचे मृतक दलित छात्र के परिवार से, माना जा रहा शक्ति परीक्षण!

इस महीने की शुरुआत में हजारों कार्यकर्ताओं ने ईंधन की कीमतों को 52 प्रतिशत तक बढ़ाने के सरकार के फैसले का विरोध किया, जो देश के इतिहास में सबसे अधिक है।

विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी, जिसने 11 अगस्त को ढाका में विरोध प्रदर्शन किया था, ने सोमवार को अपना दूसरा राष्ट्रव्यापी सरकार विरोध प्रदर्शन शुरू किया।

विरोध प्रदर्शन आम तौर पर शांतिपूर्ण रहा।

Must Read: इटली सरकार बोली लगने के बाद एयरलाइन आईटीए की बिक्री पर फैसला लेगी

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :