दलाई लामा की लद्दाख यात्रा से चीन चिढ़ा: 'संघर्षो को हल किया जा सकता है यदि हम दूसरों के लिए करुणा पैदा करते हैं'

शीर्ष भारतीय गणमान्य व्यक्तियों से मिलने से लेकर भीड़ में पुराने मित्रों को चिढ़ाने तक, मस्जिद शरीफ में मुस्लिम समुदाय के सदस्यों के साथ प्रार्थना में शामिल होने तक, जिसकी स्थापना 1382 में लद्दाख के शे में पिछले सप्ताह हुई थी, लामा ने प्रवास में जोखांग की तीर्थयात्रा की।

'संघर्षो को हल किया जा सकता है यदि हम दूसरों के लिए करुणा पैदा करते हैं'
दलाई लामा

लेह, 21 अगस्त (आईएएनएस)। भारत के लिए तिब्बती आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा (87) बौद्ध धर्म के प्रतीक हैं, जो न केवल भारत के, बल्कि यहां के नागरिकों के भी सम्मानित अतिथि हैं। वह इस समय तिब्बत की सीमा से लगे सुदूर पर्वतीय लद्दाख क्षेत्र में यात्रा कर रहे हैं। उनकी इस यात्रा से चीन चिढ़ गया है।

ठंडे रेगिस्तानी लद्दाख की यात्रा, महामारी शुरू होने के बाद से धर्मशाला के बाहर दलाई लामा का पहला दौरा है और 2020 में भारत-चीन सैन्य गतिरोध के बाद पहली यात्रा। वह एक महीना और, सितंबर तक लद्दाख में रहेंगे। उन्होंने एक सहयोगी से मजाक में कहा, हम मैदानी इलाकों में चल रहे मानसून से बचने के लिए यहां आए हैं।

आध्यात्मिक नेता 50 से अधिक वर्षो से लद्दाख आते रहे हैं, क्योंकि लोगों का उनके साथ उनकी आस्था और प्रेम-कृपा के आधार पर एक विशेष बंधन है। अब से पहले उन्होंने जुलाई 2018 में लद्दाख की यात्रा की थी।

शीर्ष भारतीय गणमान्य व्यक्तियों से मिलने से लेकर भीड़ में पुराने मित्रों को चिढ़ाने तक, मस्जिद शरीफ में मुस्लिम समुदाय के सदस्यों के साथ प्रार्थना में शामिल होने तक, जिसकी स्थापना 1382 में लद्दाख के शे में पिछले सप्ताह हुई थी, लामा ने प्रवास में जोखांग की तीर्थयात्रा की। लेह के केंद्र में प्रमुख बौद्ध मंदिर, जामा मस्जिद और अंजुमन-ए-इमामिया मस्जिद साथ ही लेह में मोरावियन चर्च।

भारत सरकार के शीर्ष अधिकारी, उपराज्यपाल आर.के. माथुर ने 14वें दलाई लामा को श्रद्धांजलि अर्पित की, जो 1959 में चीनी शासन के खिलाफ एक असफल विद्रोह के बाद से भारत में निर्वासन में रह रहे हैं, 16 अगस्त को लेह में।

इसके अलावा चीन द्वारा क्रोध का एक और अवसर था जब भारत ने दलाई लामा को उड़ाने के लिए एक सैन्य हेलीकॉप्टर तैनात किया, जिसे तिब्बती बौद्ध अपना आध्यात्मिक नेता मानते हैं, लेह से एक दूरदराज के गांव में चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ जारी गतिरोध के बीच, जो दलाई लामा को अलगाववादी मानते हैं।

दलाई लामा ने शे में मस्जिद शरीफ की अपनी यात्रा के दौरान टिप्पणी की, क्रोध, भय और ईष्र्या से उत्पन्न होने वाले कई संघर्षो को हल किया जा सकता है यदि हम दूसरों के लिए करुणा पैदा करते हैं।

उन्होंने मस्जिद शरीफ में अपने कार्यक्रम के दौरान लद्दाख की पहली विशेष रूप से विकलांग महिला छात्र सईद बानो को पीएचडी से सम्मानित किया, जहां दलाई लामा ने मुस्लिम समुदाय के सदस्यों के साथ अपनी बैठक के आयोजकों द्वारा तैयार किए गए दोपहर के भोजन का आनंद लिया।

ये भी पढ़ें:- Asia Cup 2022: 28 अगस्त को भारत के साथ मुकाबले से पहले पाक टीम को बड़ा झटका, तेज गेंदबाज शाहीन अफरीदी बाहर

दलाई लामा के कार्यालय द्वारा जारी की गई सबसे आकर्षक तस्वीरों में से एक थी, परम पावन 11 अगस्त को लद्दाख के लिंगशेड के सुदूर गांव में अपने निवास से तड़के हिमालय के दृश्य देख रहे थे।

नोबेल पुरस्कार विजेता और दुनिया में शांति और धार्मिक सद्भाव के प्रवर्तक, दलाई लामा सम्मानित धार्मिक नेताओं में से एक हैं।

ये भी पढ़ें:- सोनम कपूर के घर आया नन्हा सा बाल गोपाल, अनिल कपूर बने नाना

दलाई लामा द्वारा लंबे समय तक घर की ओर देखने की तस्वीर का जवाब देते हुए उनके एक प्रशंसक ने टिप्पणी की कि पर्वत श्रृंखला से परे तिब्बत है। उम्मीद है कि एक दिन तिब्बत फिर से आजाद होगा और वे अपने वतन लौट आएंगे।

उनके निजी कार्यालय के अधिकारियों ने आईएएनएस को बताया कि तिब्बती आध्यात्मिक नेता अक्सर मैक्लोडगंज में अपने आधिकारिक निवास की बालकनी से तेज धूप वाले दिन बर्फ से ढकी धौलाधार पर्वतमाला का आनंद लेते हैं।

Must Read: भारतीय निर्वाचन आयोग को उज्बेकिस्तान में राष्ट्रपति चुनाव से पूर्व कार्यवाही के निरीक्षण का दिया ​आमंत्रण

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :