हैदराबाद चेतक हेलीकॉप्टर की हीरक जयंती: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हैदराबाद में चेतक हेलीकॉप्टर के हीरक जयंती समारोह में की शिरकत, चेतक को बताया जीवंत साधन

देश की सुरक्षा सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है और इसकी एकता और अखंडता की रक्षा के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। यह कहना है रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह राष्ट्र के लिए चेतक हेलीकॉप्टर की सेवा के 60 साल पूरे होने के उपलक्ष में आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा। 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हैदराबाद में चेतक हेलीकॉप्टर के हीरक जयंती समारोह में की शिरकत, चेतक को बताया जीवंत साधन

नई दिल्ली, एजेंसी। 
देश की सुरक्षा सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है और इसकी एकता और अखंडता की रक्षा के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। यह कहना है रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का। 
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह राष्ट्र के लिए चेतक हेलीकॉप्टर की सेवा के 60 साल पूरे होने के उपलक्ष में आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा। 
भारतीय वायु सेना द्वारा 2 अप्रैल, 2022 को हैदराबाद के हाकिमपेट स्थित वायु सेना स्टेशन में 'चेतक- आत्म-निर्भरता, बहुविज्ञता और विश्वस्तता के 6 गौरवशाली शतक' विषय पर 'यशस्वत् षट् शतकम्'सम्मेलन का आयोजन किया गया।
इस अवसर पर वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी, तीनों सेनाओं के हेलीकॉप्टर स्ट्रीम के वरिष्ठ सेवानिवृत्त और सेवारत अधिकारी और रक्षा मंत्रालय, भारतीय तटरक्षक और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के अधिकारी उपस्थित थे।


महाराणा प्रताप के घोड़े की तुलना हेलीकॉप्टर से इतिहास में राजपूत राजा राणा प्रताप के 'चेतक' नाम के घोड़े की तुलना करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि चेतक हेलीकॉप्टर न केवल एक मशीन है, बल्कि एक जीवंत और समर्पित इकाई है।
यह पिछले छह दशकों से लगातार राष्ट्र की सेवा में लगी हुई है और दूसरों के लिए एक मिसाल कायम की। अब तक निर्मित लगभग 700 चेतकों ने पूरे समर्पण के साथ युद्ध और शांति के समय में राष्ट्र की सेवा की है। 
रक्षा मंत्री ने इस हेलीकॉप्टर की क्षमताओं के बारे में बताते हुए कहा कि,'चेतक'ने सटीकता के साथ दुश्मनों को निशाना बनाकर और सैनिकों को सफलतापूर्वक उतारकर युद्ध के मैदान में अपनी क्षमता साबित की है। 
प्राकृतिक आपदाओं के दौरान मानवीय सहायता और आपदा राहत पहुंचाने में 'चेतक'हमेशा सबसे आगे रहा है। यह पहली बार है जब कोई हेलीकॉप्टर इस मुकाम पर पहुंचा है।


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 1971 के युद्ध के दौरान चेतक हेलीकॉप्टर के असाधारण योगदान को याद किया। चेतक हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल 'मुक्ति वाहिनी' के पायलटों को प्रशिक्षित करने के लिए भी किया जाता था। 
राजनाथ सिंह ने कई भूमिकाओं में काम आने वाले 10 टन के भारतीय हेलीकॉप्टर के डिजाइन और विकास में आगे बढ़ने की आवश्यकता पर जोर दिया।
इस सम्मेलन के आयोजन का उद्देश्य 'चेतक' हेलीकॉप्टर के संचालन पर प्रकाश डालते हुए देश में छह दशकों के हेलीकॉप्टर संचालन को प्रदर्शित करने के लिए एक मंच प्रदान करना था। 

Must Read: Prime minister ने देहरादून में 18,000 करोड़ रुपये की लागत वाली परियोजनाओं का किया उद्घाटन, जोशीली कविता 'जहाँ पवन बहे संकल्प लिए...' से पूरा किया भाषण

पढें दिल्ली खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :