कोरोना के बीच Good News: मानसरोवर कोविड सेंटर से 340 लोगों ने जीती जंग, ब्रह्मकुमारीज संस्थान के सेंटर में पॉजिटिव सोच के साथ लोगों के जीवन को बचाने की मुहिम

देश और प्रदेश के साथ ही सिरोही जिले में भी करोना तेजी से पैर पसार रहा है। हालांकि यहां ब्रह्माकुमारीज संस्थान द्वारा संभाग के सबसे बड़े कोविड केन्द्र मानसरोवर में जब से कोविड मरीजों को भर्ती किया जा रहा है, तब से यहां कोविड मरीजों में तेजी से सुधार हो रहा है।

मानसरोवर कोविड सेंटर से 340 लोगों ने जीती जंग, ब्रह्मकुमारीज संस्थान के सेंटर में पॉजिटिव सोच के साथ लोगों के जीवन को बचाने की मुहिम

आबू रोड, सिरोही। 
देश और प्रदेश के साथ ही सिरोही जिले में भी करोना तेजी से पैर पसार रहा है। हालांकि यहां ब्रह्माकुमारीज संस्थान द्वारा संभाग के सबसे बड़े कोविड केन्द्र मानसरोवर में जब से कोविड मरीजों को भर्ती किया जा रहा है, तब से यहां कोविड मरीजों में तेजी से सुधार हो रहा है। चिकित्सा प्रभारी एम एल हिण्डोनिया, चिकित्सक डॉ सलीम खान, वरिष्ठ नर्सिंगकर्मी सुखवीर सिंह समेत 26 पैरामेडिकल स्टाफ की मेहनत रंग लाने लगी है। अच्छी सुविधाएं, स्वच्छता तथा सात्विक भोजन और आध्यात्मिक वातावरण का प्रभाव देखने को मिल रहा है। जब से मानसरोवर कोविड सेन्टर शुरू हुआ है तब से लेकर अब तक 449 मरीज आए, इसमें से रिकॉर्ड 340 लोगों ने कोरोना को हरा कर नई जिन्दगी पाई है। हालांकि यहां 29 लोगों की मौत भी हो गई है। वर्तमान में 60 लोग ऑक्सीजन सपोर्ट पर है जबकि 20 लोग साधारण कोरोना मरीज के रूप में इलाज करा रहे हैं।


कोरोना मरीजों की सेहत में सुधार 
सिरोही जिले के ब्रह्माकुमारीज संस्थान के मानसरोवर कोविड केन्द्र में लोगों की सार संभाल और पॉजिटिव सोच का बेहतरीन परिणाम सामने आ रहे है। यहां के सेवादारों की बदौलत रिकवरी रेट लगातार बढ़ रही है। कोरोना से लडऩे के साथ ही यहां आने वाला मरीज मानसिक तौर पर भी मजबूत हो रहे है। 
सीसीटीवी से निगरानी
माउण्ट आबू उपखण्ड अधिकारी अभिषेक सुराणा, तहसीलदार रामस्वरूप जौहर, कोविड केन्द्र प्रभारी सुमन सोनल, नोडल अधिकारी प्रदीप मायल के प्रयास रंग ला रहा है। अब मरीजों की डायरेक्ट मानिटरिंग तथा व्यवस्थाओं को सुचारू रूप से चलाने के लिए ब्रह्माकुमारीज संस्थान ने सीसीटीवी कैमरे भी लगा दिए हैं। इससे उपखंड अधिकारी सीधे कार्यालय से ही मॉनिटरिंग कर सकेंगे। आबू रोड तहसील के अधिकारियों को अलग-अलग पारियों में अलग अलग व्यवस्थाओं के लिए ड्यूटी लगाई गई है। इसमें से हेल्प डेस्क से लेकर सिलेण्डर, भोजन, दवाइयों के लिए टीमे बनाई गई हैं। इससे किसी भी प्रकार की कोई अव्यवस्था ना हो। कोविड सेंटर में पंचायत सहायकों की ड्यूटी सराहनीय है। क्योंकि ये सभी लोग मुस्तैदी से अपना कार्य कर रहे हैं। कोविड केन्द्र की सारी व्यवस्थाओं को सुचारू रूप से चलाने के लिए ऐसा सिस्टम बनाया गया है।