विश्व: चीनी एक सुंदर मातृभूमि के निर्माण में ला रहे हैं तेजी

पिछले दस वर्षों में, चीन ने मनुष्य और प्रकृति के बीच संबंधों का पुनर्निर्माण किया है। जो कभी बंजर भूमि थी, वह नखलिस्तान बन गई है। पिछले दस वर्षों में पेड़ों और घास का क्षेत्रफल 7 करोड़ 33 लाख 30 हजार हेक्टेयर से अधिक हो गया है।

चीनी एक सुंदर मातृभूमि के निर्माण में ला रहे हैं तेजी
china news

बीजिंग | पिछले एक दशक में, चीनी लोगों ने अत्यंत महत्वपूर्ण पारिस्थितिक कार्यों और अत्यंत नाजुक पारिस्थितिकी वाले क्षेत्रों की रक्षा की है। इसमें विशाल पांडा और सान चांगयुएन सहित 5 राष्ट्रीय उद्यान, 14 वैश्विक भू-पार्क और पहले खेप के 39 राष्ट्रीय घास के मैदान प्राकृतिक पार्क शामिल हैं। दस वर्षों में, 9,195 प्रकृति भंडार अच्छी तरह से संरक्षित किए गए हैं।\

राहुल गांधी के इनकार के बाद कई नाम सामने: कौन बनेगा कांग्रेस का अध्यक्ष, कई नामों पर विचार

पिछले दस वर्षों में, चीन ने मनुष्य और प्रकृति के बीच संबंधों का पुनर्निर्माण किया है। जो कभी बंजर भूमि थी, वह नखलिस्तान बन गई है। पिछले दस वर्षों में पेड़ों और घास का क्षेत्रफल 7 करोड़ 33 लाख 30 हजार हेक्टेयर से अधिक हो गया है।

राजनीतिक गलियारों में हलचल: 200 वाहनों के काफिले के साथ सचिन पायलट मिलने पहुंचे मृतक दलित छात्र के परिवार से, माना जा रहा शक्ति परीक्षण!

अगर मनुष्य प्रकृति के साथ दयालु व्यवहार करता है तो प्रकृति भी मनुष्य को इसका फल देती है। पिछले एक दशक में 1 लाख 28 हजार प्रजातियों की खोज की गई है और उन्हें चीनी जैविक प्रजातियों की सूची में शामिल किया गया है, जो 2011 की संख्या से लगभग दोगुनी है। 300 से अधिक लुप्तप्राय वन्यजीव और पौधों की प्रजातियों का पता चला है।

मनुष्य और प्रकृति के सामंजस्यपूर्ण सह-अस्तित्व की सुंदर तस्वीर चीनियों द्वारा तेजी से खींची जा रही है।

(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप,पेइचिंग)

Must Read: Corona से यूरोप और अमेरिका में हालात बेकाबू, विश्व में 1 दिन में आ रहे है 26 लाख केस, अब ओमिक्रॉन बढ़ा रहा है चिंता

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :