Hostels for Girls: राजस्थान में विप्र बालिकाओं के लिए इसी शिक्षा सत्र से शुरू होंगे हॉस्टल

राजस्थान में महिलाओं और बालिकाओं के उत्थान में लगी गहलोत सरकार जल्द ही विप्र समाज की बालिकाओं को बड़ी सौगात देने जा रही है। इसके लिए सरकार ने घोषणा भी कर दी है। ऐसे में राज्य के 7 संभाग मुख्यालयों पर इसी शिक्षा सत्र से विप्र समाज की ईडब्ल्यूएस बालिकाओं के लिए हॉस्टल की सुविधा मिलेगी। 

राजस्थान में विप्र बालिकाओं के लिए इसी शिक्षा सत्र से शुरू होंगे हॉस्टल
students

जयपुर | राजस्थान में महिलाओं और बालिकाओं के उत्थान में लगी गहलोत सरकार जल्द ही विप्र समाज की बालिकाओं को बड़ी सौगात देने जा रही है। इसके लिए सरकार ने घोषणा भी कर दी है। ऐसे में राज्य के 7 संभाग मुख्यालयों पर इसी शिक्षा सत्र से विप्र समाज की ईडब्ल्यूएस बालिकाओं के लिए हॉस्टल की सुविधा मिलेगी। 

राज्य सरकार की इस घोषणा की जानकारी साझा करते हुए विप्र कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष महेश शर्मा ने कहा कि, विप्र समाज के उत्थान के लिए सीएम अशोक गहलोत ने विप्र कल्याण बोर्ड का गठन किया है। चुनावों के दौरान कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में भी विप्र कल्याण बोर्ड बनाने का वादा किया था। ऐसे में सरकार बनने के बाद सीएम गहलोत ने इसका गठन कर दिया है।

ये भी पढ़ें:- राजस्थान बोर्ड: RBSE 10वीं-12वीं की पूरक परीक्षाएं 4 अगस्त से, जानें परीक्षा शुल्क और आवेदन प्रक्रिया

इसी शिक्षा सत्र से शुरू होंगे हॉस्टल
बोर्ड के अध्यक्ष महेश शर्मा ने अपने करौली दौरे पर कहा कि विप्र कल्याण बोर्ड के तहत इस तरह की नीति बनाई जाएगी ताकि वर्तमान ही नहीं भविष्य के लिए भी काम हो सके। ईडब्ल्यूएस में शामिल बालिकाओं के लिए इसी शिक्षा सत्र से हॉस्टल शुरू हो जाएंगे। इससे बालिकाओं को सुविधा मिलेगी। 

ये भी पढ़ें:- Rajasthan Rain Alert: मानसून के स्वागत को तैयार राजस्थान, 3 दिन तक कई जिलों में अति भारी बारिश का अलर्ट

संभागों के बाद जिला और तहसील स्तर पर होगा काम
उन्होंने कहा कि, सात संभागों के बाद जिला और तहसील स्तर पर हॉस्टल व्यवस्थाओं को शुरू किया जाएगा। विप्र कल्याण बोर्ड की ओर से छात्रवृति के माध्यम से विद्यार्थियों की मदद की जाएगी। इसके अलावा जो विद्यार्थी शिक्षा के लिए गांव से दूर शहरों में जाते हैं, उनके लिए भी हॉस्टल की सुविधा के प्रयास किए जा रहे हैं।

Must Read: प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन विषय पर कार्यशाला आयोजित, महिलाओं को अपशिष्ट से आय का बताया साधन

पढें लाइफ स्टाइल खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :